मनसे प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ जारी किया गैर जमानती वारंट

मनसे प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ जारी किया गैर जमानती वारंट

मुंबई : महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) रजनीश सेठ ने कहा कि राज्य पुलिस लाउडस्पीकर विवाद में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे द्वारा आहूत आंदोलन से उत्पन्न किसी भी कानून-व्यवस्था के मुद्दों से निपटने के लिए तैयार है और कहा कि पुलिस मंगलवार को ही उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करेगी। इस बीच पश्चिमी महाराष्ट्र के सांगली जिले की एक अदालत ने 14 साल पुराने एक मामले में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया है।

राज ठाकरे ने 1 मई को औरंगाबाद में अपने भाषण के दौरान राज्य सरकार को 4 मई (बुधवार) तक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने का अल्टीमेटम दिया था। साथ ही ऐसा नहीं किए जाने पर “मस्जिदों के सामने (अज़ान की तुलना में) तेज आवाज में हनुमान चालीसा का बजाया जाएगा।”

2008 में, श्री ठाकरे पर कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के लिए आईपीसी की धारा 109 और 117 (अपराध के लिए उकसाना) के तहत मामला दर्ज किया गया था। 6 अप्रैल को गैर-जमानती वारंट जारी करते हुए, सांगली जिले के शिराला में न्यायिक मजिस्ट्रेट, प्रथम श्रेणी ने मुंबई पुलिस आयुक्त को मनसे प्रमुख को गिरफ्तार करने और अदालत के समक्ष पेश करने के लिए कहा।

सहायक लोक अभियोजक, ज्योति पाटिल ने कहा कि न्यायाधीश ने श्री ठाकरे और एक अन्य मनसे नेता शिरीष पारकर के खिलाफ क्रमशः मुंबई पुलिस आयुक्त और खेरवाड़ी पुलिस स्टेशन के माध्यम से वारंट जारी किया क्योंकि वे मामले की कार्यवाही के दौरान अदालत के सामने खुद को पेश करने में विफल रहे। उन्होंने कहा कि अदालत ने पुलिस से आठ जून से पहले वारंट लागू करने और दोनों नेताओं को अदालत में पेश करने को कहा है।

अपनी शुरुआती टिप्पणी में पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) रजनीश सेठ ने कहा: “गृह मंत्री (दिलीप वालसे-पाटिल) ने कानून और व्यवस्था के (रखरखाव) के लिए एक बैठक की। शांति व मोहल्ला कमेटी के साथ कई बैठकें हो चुकी हैं। हम कानून-व्यवस्था की किसी भी समस्या और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। (पुलिस कर्मियों के) सभी अवकाश रद्द कर दिए गए हैं।

कहा, हमने 15,000 अपराधियों और असामाजिक तत्वों के खिलाफ निवारक कार्रवाई की है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे कानून और व्यवस्था का कोई मुद्दा न बनाएं। हमने 13,000 लोगों को नोटिस भी दिया है। स्थानीय पुलिस स्तर पर कई बैठकें की गईं। राज्य भर में एसआरपीएफ की 87 कंपनियां और 30,000 से ज्यादा होमगार्ड तैनात किए गए हैं। सार्वजनिक शांति भंग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ पहुंचे हाईकोर्ट, अदालत ने यूपी सरकार से मांगा शपथ पत्र... बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ पहुंचे हाईकोर्ट, अदालत ने यूपी सरकार से मांगा शपथ पत्र...
बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल पुलिस कार्रवाई के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि ईडी, सीबीआई आदि...
बोल्ड तस्वीरों से अभिनेत्री अथिया शेट्टी ने बढ़ाया इंटरनेट का पारा...
मुंबई में 23 अगस्त तक सड़कों के गड्ढे भरेगी बीएमसी...
उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राकांपा नेता पर क्यों कसा तंज...'मर्जी के हिसाब से चीजें भूल जाते हैं अजित पवार'
काला जादू के चक्कर में पांच साल की बच्ची को पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट...
गैंगरेप और हत्या की कोशिश के मामले में सीएम शिंदे ने दिए जांच के आदेश, गठित की एसआईटी...
बीजेपी का कहना है 'अवैध स्टूडियो घोटाले में कांग्रेस के असलम शेख के खिलाफ नोटिस जारी'

Join Us on Social Media

Videos