बेरोजगारों का आंकड़ा हुआ २४ प्रतिशत के पार, ३०,००,००,००० युवा बेरोजगार…!

बेरोजगारों का आंकड़ा हुआ २४ प्रतिशत के पार, ३०,००,००,००० युवा बेरोजगार…!

Rokthok Lekhani

मुंबई : आठ साल पहले यानी कि वर्ष २०१४ के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने २८२ सीटों पर जीत हासिल की और आज ही के दिन नरेंद्र मोदी ने पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। फ्लॉप नोटबंदी और जीएसटी कानूनों के बावजूद वर्ष २०१९ में भाजपा ने अकेले दम पर ३०३ सीटें जीतीं तथा नरेंद्र मोदी दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने। आज मोदी सरकार दावा कर रही है कि हिंदुस्थान की जीडीपी और आम आदमी की कमाई लगभग दोगुनी हो गई है।

हिंदुस्थान दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने २०२५ तक हिंदुस्थान की जीडीपी ५ मिलियन डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है, लेकिन हकीकत इससे बिल्कुल अलग है। आम आदमी आज भी अपने विकास का इंतजार कर रहा है। देश में महंगाई का दावानल भड़क रहा है, बेरोजगारी चरम पर है। इसी बीच विश्व बैंक के पूर्व मुख्य अर्थशास्त्री ने कहा कि हिंदुस्थान में युवा बेरोजगारी २४ प्रतिशत से अधिक है, अर्थात करीब ३०,००,००,००० (तीस करोड़) युवा बेरोजगार हैं। बेरोजगारी के मामले में देश के हालात बद से बदतर हो गए हैं। नतीजतन यह दुनिया में सबसे अधिक बेरोजगारी वाले देशों में शामिल है। बेरोजगारी के मुद्दे पर बसु ने कहा कि सरकार को छोटे उत्पादकों, अनौपचारिक क्षेत्र और किसानों की मदद के लिए राजकोषीय हस्तक्षेप को लक्षित करने पर काम करने की जरूरत है।

विश्व बैंक के पूर्व मुख्य अर्थशास्त्री कौशिक बसु ने कहा कि भले ही भारतीय अर्थव्यवस्था के मूल तत्व मजबूत हैं लेकिन विभाजन और ध्रुवीकरण में इजाफा देश के विकास की नींव को नुकसान पहुंचा रहा है। बसु २००९ से २०१२ तक भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार थे। उन्होंने कहा कि भारत की बड़ी चुनौती बेरोजगारी और काम धंधा का नहीं होना है, क्योंकि भारत में युवा बेरोजगारी २४ प्रतिशत से अधिक है, जिसकी वजह से यह दुनिया में सबसे अधिक बेरोजगारी वाले देशों में शामिल है।

बसु ने मीडिया को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि किसी देश का विकास केवल आर्थिक नीति पर निर्भर नहीं करता है बल्कि किसी राष्ट्र की आर्थिक सफलता का एक बड़ा निर्धारक लोगों के बीच भरोसा होना है। यह इसका बढ़ता प्रमाण है।
प्रख्यात अर्थशास्त्री ने कहा कि भारतीय समाज में विभाजन और ध्रुवीकरण में तेजी न केवल अपने आप में दु:खद है, बल्कि यह देश के विकास की नींव को नुकसान पहुंचा रही है।


Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार... भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार...
वसई-विरार और नालासोपारा में देर रात से जोरदार बारिश हो रही है। भारी बारिश के कारण लोग अपने घरों में...
प्रधानमंत्री की दौड़ में ऋषि सुनक की जीत के लिए ब्रिटेन में हो रही हवन, जानिए पीएम रेस में कितनी बढ़त...
एक्टर राणा दग्गुबाती ने इंस्टाग्राम को कहा अलविदा, डिलीट किए सारे पोस्ट...
BMC की 50 लाख तिरंगे बांटने की है योजना, मुंबई में हर घर लहराएगा तिरंगा...
गांव जाने से पत्नी करने लगी मना, सनकी पति ने अपनी पत्नी पर चाकू से कर दिया हमला...
महाराष्ट्र कैबिनेट की मेट्रो 3 परियोजना की लागत में बढ़ोतरी के लिए मिल सकती है मंजूरी...
सुप्रिया सुले महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में महिलाओं को जगह न मिलने से नाखुश...

Join Us on Social Media

Videos