ड्रग्स सप्लायर देवर-भाभी गैंग 10 किलो चरस अरेस्ट, अफगानिस्तान से नेपाल के रास्ते भारत में सप्लाई…

ड्रग्स सप्लायर देवर-भाभी गैंग 10 किलो चरस अरेस्ट, अफगानिस्तान से नेपाल के रास्ते भारत में सप्लाई…

Rokthok Lekhani

मुंबई : क्राइम ब्रांच भोपाल ने ड्रग्स सप्लायर देवर-भाभी गैंग को 10 किलो चरस के साथ पकड़ा है। गैंग की सरगना महिला है। उसके अलावा देवर समेत दो और लोग पकड़े गए हैं। अब तक की पुलिस जांच में पता लगा है कि देवर-भाभी को नेपाल का तस्कर ड्रग्स पहुंचाता था। इसे गिरोह मुंबई के तस्करों को सप्लाई करता था। मुंबई के VIP एरिया और हाई प्रोफाइल पार्टियों तक ड्रग्स पहुंचाई जाती थी।

पुलिस इनका बॉलीवुड लिंक भी खंगाल रही है। पुलिस ने गैंग को तब पकड़ा, जब सभी ऑटो से रानी कमलापति रेलवे स्टेशन (हबीबगंज) जाने के लिए निकले थे। तस्करों को मुंबई की ट्रेन पकड़नी थी। इससे पहले धर लिए गए। पुलिस ने बरामद चरस की कीमत 5 करोड़ रुपए बताई है। पुलिस को आशंका है कि चरस अफगानिस्तान से नेपाल के रास्ते भारत में भेजी जा रही होगी। गिरफ्तार महिला विधवा है। पति की मौत के बाद वह खुद उसके काले धंधे को संभालने लगी।

एडिशनल DCP शैलेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि पुलिस ने घेराबंदी कर जिंसी चौराहे के पास ऑटो को रोका। ऑटो में बैठे व्यक्ति ने अपनी पहचान अंधेरी वेस्ट (मुंबई) निवासी शाहिद (44), साथ में बैठी महिला ने अपनी पहचान जुलेखा डीएन नगर अंधेरी वेस्ट बताया। दोनों देवर-भाभी हैं। शाहिद के बैग की तलाशी लेने पर तीन पैकेट में चरस मिली।

जुलेखा के कंधे पर टंगे बैग में 1 किलो 480 ग्राम चरस मिली। दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने चरस की दलाली करने वाले बबलू उर्फ शाहिद के पास से 265 ग्राम, वीर बहादुर गिरी के पास से 6.700 किग्रा चरस बरामद की।

आरोपियों का तस्करी में क्या रोल?
जुलेखा सिद्दीकी: उम्र 48 साल। निवासी- याकूब ड्राइवर सोलापुर चाल कामा रोड, गांव देवीडोंगरी उस्मानिया डोंगरी, थाना डीएन नगर अंधेरी वेस्ट मुंबई। अनपढ़ है। पति अब्दुल कलाम सिद्दीकी की मौत के बाद चरस की तस्करी में लग गई।

शाहिद: उम्र 44 साल। निवासी- याकूब ड्राइवर सोलापुर चाल कामा रोड, गांव देवीडोंगरी उस्मानिया डोंगरी, थाना डीएन नगर अंधेरी वेस्ट मुंबई। अनपढ़ है। भाभी जुलेखा के साथ मिलकर तस्करी करता था।

बबलू उर्फ शाहिद अली: उम्र 40 साल। निवासी- बैतूल। भोपाल में मॉडल ग्राउंड थाना शाहजहांनाबाद में रहता है। नेपाली तस्कर से इसके पास चरस की खेप पहुंचती है। इसके बाद वह आगे की सप्लाई देता है। दिखावे के लिए कानपुर से लेदर की बेल्ट लाकर बेचता है।

वीर बहादुर गिरी: उम्र 45 साल। निवासी- शिवराजपुर थाना नौतन जिला पश्चिम चंपारन, बिहार। चौथी तक पढ़ा है। कारपेंटरी का काम करता है।


Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावत को लेकर दिया बड़ा बयान, कुछ भी गड़बड़ होता तो ‘शहीद’ हो गये होते मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावत को लेकर दिया बड़ा बयान, कुछ भी गड़बड़ होता तो ‘शहीद’ हो गये होते
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा है कि अगर शिवसेना नेतृत्व के खिलाफ उनके विद्रोह के दौरान कुछ गड़बड़...
मलाड की 27 वर्षीय महिला को यूके के दोस्त से मिला धोखा, लगा दिया लाखों का चूना...
मुंबई के माहिम स्थित मीठी नदी में दो युवक डूबे, एक की लाश बरामद और दूसरे की तलाश जारी
मुंबई में नेट फिल्टर तकनीक से होगा खाड़ी का कचरा साफ, मालाड ख़ाडी से शुरुआत...
बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह से मुंबई पुलिस नग्न फोटोशूट मामले में करेगी पूछताछ...
कांदिवली पश्चिम में 63 लाख वाली ऑडी 34 लाख रुपए में खरीद रहे थे डॉक्‍टर साहब, ठग ने लगाया 25 लाख का चूना...
महाराष्ट्र में बीजेपी ने संगठन में बड़ा फेरबदल...चंद्रशेखर बावनकुले प्रदेश महाराष्ट्र अध्यक्ष

Join Us on Social Media

Videos