ओबीसी को आरक्षण : कई त्रुटियों पर काम करने की जरूरत- राकांपा नेता छगन भुजबल

Reservation for OBCs: Need to work on many flaws: NCP leader Chhagan Bhujbal

ओबीसी को आरक्षण : कई त्रुटियों पर काम करने की जरूरत- राकांपा नेता छगन भुजबल

मुंबई : पूर्व मंत्री और वरिष्ठ राकांपा नेता छगन भुजबल का कहना है कि अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को आरक्षण मिला है, लेकिन अभी लड़ाई खत्म नहीं हुई है। जो रिपोर्ट मिली है, उसमें 60 प्रतिशत ओबीसी रहते हुए कुछ गावों में शून्य प्रतिशत ओबीसी दिखाए गए है।

कई त्रुटियां हैं, जिन पर काम करना होगा। आगे की लड़ाई पूर्ण आरक्षण के लिए हर जिले में लड़नी होगी। भुजबल ने यह बात नासिक में अपने सम्मान समारोह में कही। राज्य में ओबीसी आरक्षण बहाल होने पर समता परिषद की तरफ से उनका सम्मान किया गया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि सरकारें आती-जाती रहती हैं, लेकिन राज्य के पिछड़े वर्ग के नागरिकों और उन्हें मिलने वाली सुविधाओं के साथ-साथ सरकारी लाभ पाने के लिए कई वर्षों तक संघर्ष करना पड़ता है, तब कहीं जाकर न्याय मिलता है। ओबीसी आरक्षण के लिए भी इसी तरीके से लड़ाई लड़नी पड़ी।

मंडल आयोग की रिपोर्ट आई, इसे मान लिया गया, लेकिन इसे लेकर कई बार अदालत जाना पड़ा। इसके माध्यम से ओबीसी को शिक्षा, नौकरियों में आरक्षण मिला। उसके बाद पूरी दुनिया में कोरोना का संकट खड़ा हो गया था। इससे पहले फडणवीस सरकार के दौरान भी ओबीसी आरक्षण के लिए प्रयास किए गए थे। वे इंपीरियल डेटा के लिए केंद्र के पास गए, लेकिन वह मिला नहीं।

इसके बाद महाविकास आघाड़ी सरकार आई। इस बार हम सुप्रीम कोर्ट गए। हम इंपीरियल डेटा के लिए केंद्र तक गए। केंद्र ने कहा कि डेटा है, लेकिन ओबीसी का नहीं है, फिर आयोग बनाया गया, 15 दिनों में काम करने को कहा गया, लेकिन वह खारिज कर दिया, फिर चार महीने बाद रिपोर्ट आई और इसे मंजूरी दी गई।

इस प्रकार ओबीसी आरक्षण का 99 प्रतिशत कार्य महाविकास आघाड़ी सरकार के दौरान हुआ। तो उन सभी का धन्यवाद, जो ओबीसी आरक्षण के लिए लड़ रहे थे। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और फडणवीस सरकार को भी धन्यवाद। भुजबल ने देवेंद्र फडणवीस साहब को विशेष धन्यवाद दिया। इस तरह भुजबल ने संक्षेप में ओबीसी आरक्षण की यात्रा पर प्रकाश डाला।

वरिष्ठ ओबीसी नेता ने कहा कि आरक्षण तो मिला, लेकिन हमारी लड़ाई खत्म नहीं हुई है। जानकारी मिली है कि कुछ गांवों में 60 फीसदी ओबीसी हैं, लेकिन उनकी संख्या को शून्य फीसदी  दिखाया गया है। कई त्रुटियां हैं, जिन पर काम करने की जरूरत है।

पूर्ण आरक्षण के लिए अगली लड़ाई हर जिले में लड़नी होगी। भुजबल ने भारत सरकार से विशेष अनुरोध किया है कि महाराष्ट्र की समस्या का समाधान हो गया, लेकिन देश के अन्य राज्यों में ओबीसी के मुद्दे को भी हल किया जाए।

Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

चर्च में नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म, आश्रम के फादर गिरफ्तार... चर्च में नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म, आश्रम के फादर गिरफ्तार...
सीवुड्स स्थित चर्च में तीन नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म किए जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में...
पूर्व पुलिस आयुक्त संजय पांडे की गिरफ्तारी को लेकर मुखर होती जा रही है आवाज...
महाराष्ट्र के रायगढ़ से पूर्व विधायक विनायक मेटे की सड़क दुर्घटना में मौत...
ऑर्थर रोड जेल में मुंबई के टॉप 3 महाराष्ट्र के तीन सीनियर लीडर, कैदी नंबर 2225 हैं अनिल देशमुख, संजय राउत को मिल रही हैं ये सुविधाएं...
फिल्म में बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान के लुक्स पर बोले गिप्पी ग्रेवाल, कहा- पंजाबियों को नकली दाढ़ी पसंद नहीं..
सलमान रुश्दी पर हमले की निंदा करने वाली लेखिका जेके राउलिंग को मिली जान से मारने की धमकी...
अगस्त के महीने में लगातार छुट्टियों के कारण मुंबई-पुणे एक्सप्रेस हाईवे पर भारी जाम...

Join Us on Social Media

Videos