मुंबई के माहिम इलाके में ताजिया जुलूस 50 फीसदी से कम देखा गया , मुसलमानों ने रोज़ा रखा और गरीबों में लंगर वितरित किए

Tazia procession witnessed less than 50 percent in Mahim Dharavi area of ​​Mumbai, Muslims observe fast and distribute langar among poor , Suhail Khandwani Mahim Dargah Trustee

Advertisement

Creative Point Photo Videography (Mumbai)
मुंबई के माहिम इलाके में ताजिया जुलूस 50 फीसदी से कम देखा गया , मुसलमानों ने रोज़ा रखा और गरीबों में लंगर वितरित किए

मुंबई के माहिम में इलाके ताजिया जुलूस 50 फीसदी से कम देखा गया । ताजिया ज्यादातर धारावी से आतेह है लेकिन इस 50 फीसदी से ज्यादा कमी दिखी एक पुलिस अधिकारी ने बताया । ज्यादातर लोग शरबत खीचड़ा अपने इलाको में मुसावीर , गरीब, रिश्तेदारों में तस्किम किया गया ।

मुंबई के माहिम में इलाके ताजिया जुलूस 50 फीसदी से कम देखा गया । ताजिया ज्यादातर धारावी से आतेह है लेकिन इस 50 फीसदी से ज्यादा कमी दिखी एक पुलिस अधिकारी ने बताया । ज्यादातर लोग शरबत खीचड़ा अपने इलाको में मुसावीर , गरीब, रिश्तेदारों में तस्किम किया गया । इस साल ज्यादातर लोग दिन में रोज़ा रखे शामको वितरण का आयोजन किया गया ।

सुहैल खंडवानी माहिम & हाजी अली दरगाह के ट्रस्टी ने बताया कि मुहर्रम कर्बला की लड़ाई में पैगंबर मोहम्मद के पोते हुसैन की शहादत की याद में मनाया जाता है। ताजिया और जुलूस कम हो गए हैं।  पहले लंबे जुलूस होते थे लोगो लेकिन अहसास हुआ कि लोगों की सेवा करने और रोजा रखने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए।  हमारे समुदाय के लोगों ने महसूस किया कि हम अपने इमाम हुसैन को रोज़ा और लोगों की सेवा करके याद कर सकते हैं।  उन्हें दस दिन तक भूखा-प्यासा रखा गया।  इसलिए थके हुए यात्रियों को शर्बत परोसने की इस परंपरा को एक स्मरण के रूप में मनाया जाता है। 

उन्होंने कहा कि समुदाय का यह भी मानना ​​है कि उनके पैगंबर के पोते ने सच बोलने के लिए शहादत दी थी।  “हम नहीं चाहते कि चिलचिलाती धूप में घूमने वाले यात्रियों को समान कठिनाइयों का सामना करना पड़े।  इमाम हुसैन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और अधिकारों के लिए खड़े थे।  राजनीतिक फासीवाद के बजाय लोकतंत्र की जीत होनी चाहिए इसी वजह से वह शहीद हो गए।  इसलिए हम परंपराओं के बहकावे में नहीं आने का प्रयास करते हैं और ताजिया जुलूसों में भाग लेने में समय नहीं लगाते हैं ।

शर्बत परोसने की इस परंपरा को बरकरार रखा है 1400 साल पहले इमाम हुसैन को यज़ीदों ने शहीद कर दिया था जो मुसलमान थे लेकिन उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के नियमों का पालन नहीं किया।  यज़ीद ने लोगों को प्रताड़ित किया और वह इस्लाम के खिलाफ था।  इमाम हुसैन को अपने पीछे चलने के लिए कहने के बाद, यज़ीद ने उन्हें और उनके 72 सदस्यों के परिवार को कर्बला में कैद कर लिया । 

उन्हें 10 दिनों तक एक तंबू में प्रताड़ित किया गया और भोजन और पानी से वंचित रखा गया। उनकी याद में मुसलमान लोगों को शरबत , खाना खिलाते हैं।  चूंकि उन्हें पानी से वंचित कर दिया गया था, इसलिए मुसलमान शरबत खिचड़ा, पुलाव भी पकाते हैं और गरीबों में बांटते हैं।  यह दिन इस बात का प्रतीक है बलिदान का महीना है और सत्य की जीत होगी चाहे कोई कितना भी पीड़ित क्यों न हो।  सही रास्ते पर धैर्यवान और दृढ़ रहना चाहिए, अपने सिद्धांतों का पालन करना चाहिए और दोस्तों, परिवार और समाज की परवाह करनी चाहिए सुहैल खंडवानी ने कहा ।

Advertisement

Creative Point Photo Videography (Mumbai)
Citizen Reporter
Report Your News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Advertisement

Creative Point Photo Videography (Mumbai)

Join Us on Social Media

Latest News

 पुणे में आधी रात को ढहा दिया गया चांदनी चौक ब्रिज... पुणे में आधी रात को ढहा दिया गया चांदनी चौक ब्रिज...
महाराष्ट्र के पुणे में चांदनी चौक ब्रिज गिरा दिया गया है. यह 2 अक्टूबर को सुबह 2 बजे गिराया गया....
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को लग सकता है बड़ा झटका, मिलिंद नार्वेकर शिंदे गुट में हो सकते हैं शामिल...
नवी मुंबई के कोपरखैरने इलाके में ताश के पत्तों की तरह ढही 4 मंजिला इमारत, एक व्यक्ति की मौत...
फिल्मी स्टाइल में हो रही थी तस्करी, नवी मुंबई में 1,476 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त...
अभिनेता Annu Kapoor ठगी का शिकार, ठगों ने ४.३६ लाख रुपए निकाल लिए
मुंबई कोस्टल रोड योजना २०२३ तक हो जाएगी पूरी...
क्राइम ब्रांच के हत्थे चढ़े शातिर चोर...2 लाख से ज्यादा का माल जप्त

Advertisement

Creative Point Photo Videography (Mumbai)

Join Us on Social Media

Videos