महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ कांग्रेस-NCP कैसे चलाएंगी सरकार, एक-दो दिन में तस्वीर होगी साफ

महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ कांग्रेस-NCP कैसे चलाएंगी सरकार, एक-दो दिन में तस्वीर होगी साफ

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और एनसीपी में बैठकों का दौर जारी है। सोमवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की है। लेकिन इस मुलाकात के बाद भी महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर तस्वीर अभी तक साफ नहीं है। बताया जा रहा है सरकार बनाने को लेकर साझा न्यूनतम कार्यक्रम अब तक तय नहीं हो सका है। वहीं सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध पर मंगलवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, ए.के. एंटनी और मल्लिकाजुर्न खड़गे संग बैठक की।

एएनआई के सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस-एनसीपी ने साझा न्यूनतम कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के लिए एक-दो दिनों में दिल्ली में बैठक करनी है। शिवसेना के साथ चर्चा के लिए इसे लेने से पहले दोनों पक्षों के शीर्ष नेतृत्व द्वारा अंतिम मसौदा तैयार किया जाएगा। शिवसेना के साथ चर्चा करने से पहले कांग्रेस और एनसीपी का शीर्ष नेतृत्व साझा न्यूनतम कार्यक्रम पर अंतिम मसौदा तैयार करेगा।

उल्लेखनीय है कि 21 अक्टूबर का विधानसभा चुनाव भाजपा-शिवसेना ने गठबंधन के तहत लड़ा था, जबकि कांग्रेस-एनसीपी ने अलग गठबंधन के तहत यह चुनाव लड़ा था। लेकिन 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 105 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी, जबकि शिवसेना 56 सीटें जीत पाई। इसके बाद भाजपा-शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर पैदा हुए गतिरोध के कारण दोनों पार्टियां अलग हो गईं। अब कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयास कर रही हैं।

मालूम हो कि गठबंधन सरकार बनाने की कोशिशों के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। हालांकि, इसके बाद भी सरकार गठन पर कोई फैसला नहीं हो सका। करीब 50 मिनट की मुलाकात के बाद शरद पवार ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष से सरकार के गठन को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है। हमने राज्य में राजनीतिक हालात के बारे में चर्चा की। कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की जल्द बैठक होगी, इसमें स्थिति का जायजा लिया जाएगा। मुलाकात के फौरन बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि दोनों पार्टियों के नेता आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे।

उल्लेखनीय है कि 21 अक्टूबर का विधानसभा चुनाव भाजपा-शिवसेना ने गठबंधन के तहत लड़ा था, जबकि कांग्रेस-एनसीपी ने अलग गठबंधन के तहत यह चुनाव लड़ा था। लेकिन 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 105 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी, जबकि शिवसेना 56 सीटें जीत पाई। इसके बाद भाजपा-शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर पैदा हुए गतिरोध के कारण दोनों पार्टियां अलग हो गईं। अब कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयास कर रही हैं।

मालूम हो कि गठबंधन सरकार बनाने की कोशिशों के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। हालांकि, इसके बाद भी सरकार गठन पर कोई फैसला नहीं हो सका। करीब 50 मिनट की मुलाकात के बाद शरद पवार ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष से सरकार के गठन को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है। हमने राज्य में राजनीतिक हालात के बारे में चर्चा की। कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की जल्द बैठक होगी, इसमें स्थिति का जायजा लिया जाएगा। मुलाकात के फौरन बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि दोनों पार्टियों के नेता आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे।

Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने नागरिकता बिल लौटाया, अब देउबा सरकार के आगे नई चुनौती... राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने नागरिकता बिल लौटाया, अब देउबा सरकार के आगे नई चुनौती...
नेपाल में बहुचर्चित नागरिकता कानून संशोधन बिल को वापस संसद को लौटा देने के राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के कदम...
फिल्म द डर्टी पिक्चर के सीक्वल पर काम शुरू, विद्या बालन नहीं ये अभिनेत्री आ सकती हैं नजर...!
मुंबई पुलिस ने की 513 किलो ड्रग्स जब्त...एक हजार करोड़ रुपये से अधिक है कीमत
खत्म होगा पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का वनवास, अगले महीने लंदन से पाकिस्तान लौटेंगे
सैफ अली खान को नवाब खानदान में पैदा होने के बावजूद तरसना पड़ता था छोटी चीज के लिए...
सुधीर मुनगंटीवार के आदेश पर नाराज हुई रजा अकादमी...
9 बार किया था रिलायंस अस्पताल के नंबर पर फोन...मुकेश अंबानी को दी थी जान से मारने की धमकी, जूलर ने अंबानी को क्यों दी धमकी?

Join Us on Social Media

Videos