संसद ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी दी; राज्‍यसभा ने विधेयक को 105 के मुकाबले 125 वोटों से पारित किया

संसद ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी दी; राज्‍यसभा ने विधेयक को 105 के मुकाबले 125 वोटों से पारित किया

राज्‍यसभा ने आज नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पारित कर दिया है। सदन ने विधेयक को 105 के मुकाबले 125 वोटों से मंजूरी दी।

Read More डेटिंग ऐप से नंबर चुराकर यौन संबंध का झांसा देकर अपहरण...दो गिरफ्तार

लोकसभा ने इस विधेयक को पहले ही पारित कर दिया है। सदन में विधेयक पर विपक्ष के संशोधनों को खारिज करते हुए विधेयक को मंजूरी दी।

Read More विदेशों में घरेलू हिंसा का सामना कर रहीं भारतीय महिलाओं की सुरक्षा पर ध्यान दे सरकार - सांसद प्रियंका चतुर्वेदी

बहस का उत्‍तर देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि यह विधेयक पाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश और अफगानिस्‍तान जैसे पड़ोसी देशों के अल्‍प संख्‍यकों को मुसीबतों से छुटकारा दिलाने के लिए एक ऐतिहासिक आवश्‍यकता है।

Read More स्पाइसजेट विमान में जब टपकने लगा बरसात का पानी

उन्‍होंने कहा कि धार्मिक आधार पर देश के विभाजन के बाद इन देशों में अल्‍पसंख्‍यकों को लगातार उत्‍पीड़न का सामना करना पड़ रहा है।

Read More मौत का हाईवे बनता जा रहा है मुंबई- पुणे एक्सप्रेस वे...4 महीने में 5,332 डेथ, 10 हजार से ज्यादा जख्मी

गृहमंत्री ने सवाल किया कि कांग्रेस धर्म के आधार पर भारत के विभाजन को कैसे राजी हुई?

नागरिकता संशोधन अधिनियम में 1955 के नागरिकता अधिनियम में संशोधन करके अफगानिस्‍तान, बांग्‍लादेश और पाकिस्‍तान के छह समुदायों के अवैध आप्रवासियों को भारतीय नागरिकता के लिए पात्र बनाने का प्रावधान किया गया है।

ये समुदाय हैं-हिन्‍दू, सिक्‍ख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई।

इस विधेयक की संवैधानिकता को लेकर सदस्‍यों के सवालों का जवाब देते हुए श्री शाह ने कहा कि इसमें शर्तों को पूरा करने के लिए तर्क संगत तरीके से वर्गीकरण किया गया है।

उन्‍होंने कहा कि उच्‍च सदन को जनता की भलाई की आवश्‍यकताओं को ध्‍यान में रखते हुए कानून बनाने से नहीं हिचकना चाहिए।

उन्‍होंने सदन को आश्‍वासन दिया कि इस विधेयक में किसी भी मुसलमान की नागरिकता छीनने का कोई प्रस्‍ताव नहीं है।

उन्‍होंने जोर देकर कहा कि इसमें पड़ोस के तीन देशों में धार्मिक कारणों से सताये गये लोगों को नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान है।

गृहमंत्री ने राज्‍यसभा को बताया कि पिछले पांच वर्षों में भारत ने इन देशों के 566 मुसलमानों को भी नागरिकता देने में उदारता दिखायी है।

उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के विपरित एन डी ए सरकार की धार्मिक स्‍वतंत्रता को लेकर विस्‍तृत परिभाषा है।

अमित शाह ने कहा कि यह विधेयक न तो जल्‍दीबाजी में लाया गया है और न ही इसमें मुद्दों से ध्‍यान हटाने के लिए कथित रूप से कुछ छिपाने की कोशिश की गई है।

उन्‍होंने कहा कि 2015 में भी यह विधेयक लाया गया था। गृहमंत्री ने कहा कि नागरिकता अधिनियम में कई संशोधन किये गये हैं और श्रीलंका तथा यूगांडा के लोगों को नागरिकता दी गयी है।

Tags:
Join Us on Telegram
Telegram
Join Us on Whatsapp
Whatsapp
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2  की मौत... खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2  की मौत...
वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे नेशनल पार्क ब्रिज पर  खड्ढे की चपेट में आने के कारण दो बाइक सवार गिर गए पीछे...
मानहानि का मामला: शिवसेना नेता संजय राउत वीडियो कांफ्रेंस के जरिए मुंबई की अदालत में पेश हुए
दही हांडी उत्सव के दौरान शिंदे और उद्धव के समर्थक शक्ति प्रदर्शन के लिए तैयार...
अजित पवार का आरोप... सीएम एकनाथ शिंदे के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद से राज्य में हर दिन 3 किसान आत्महत्या
कीर्ति सुरेश को ग्लैमरस दिखने की कोशिश पड़ी भारी, लोगों ने दिया बेहूदा फैशन का खिताब...
खाने की शिकायत पर बुजुर्ग को जड़ा दिया ऐसा घूंसा, एक महीने बाद मौत...
रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन में हरिहरेश्वर के तट पर एके-47, राइफल और गोलियों के साथ एक अज्ञात नाव मिली

Join Us on Social Media

Videos