भावनगर जिले में रोलिंग मिल उद्योग बंद होने की स्थिति में

भावनगर जिले में रोलिंग मिल उद्योग बंद होने की स्थिति में

भावनगर जिले में रोलिंग मिल उद्योग बंद होने की स्थिति में है. कोरोना प्रकोप के चलते जिले के बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक अपने घरों को लौट गये हैं और शेष अब भी घर जाने की जिद कर रहे हैं. इन श्रमिकों के बिना रोलिंग मिलों का संचालन संभव नहीं है.

Read More कौन कर रहा 'तिरंगे' पर राजनीति, कांग्रेस पार्टी ने तिरंगा तो लगाया, लेकिन… चीन से किसने ली 'हर घर तिरंगा' अभियान में मदद?

रोलिंग मिल के मालिक अब सरकार और प्रशासन से इन श्रमिकों को समझाने और उन्हें घर न जाने देने की मांग कर रहे हैं. अब तक 12 हजार से अधिक मजदूर अपने घर चले गये हैं, जबकि पांच हजार श्रमिक घर जाने का इंतजार कर रहे हैं. इसमें से लगभग 3000 श्रमिकों ने बुकिंग भी करा रखी है.

Read More बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा , बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन भी टूट गया

सरकार से मंजूरी के बाद इन सभी श्रमिकों को उनके गृहनगर ट्रेनों में भेज दिया जाएगा. मिल मालिकों को यह डर सता रहा है कि यदि सभी श्रमिक अपने घरों को वापस चले गये तो रोलिंग मिल उद्योग ठप हो जाएगा. अब यहां केवल 10 रोलिंग मिलें और भट्ठी इकाइयां काम कर रही हैं. इसलिए रोलिंग मिल मालिक सरकार और स्थानीय प्रशासन ने शेष बचे श्रमिकों को का किसी तरह रोकने का प्रयास करने की मांग कर रहे हैं.

Read More लेखिका तसलीमा नसरीन का दावा...'मेरी भी हत्या हो सकती है, पाकिस्तानी धर्मगुरु खादिम रिजवी मुझे मारना चाहता था'

मिल मालिकों को उम्मीद है कि यदि श्रमिक यहां रहेंगे तो ही उनका रोलिंग मिल उद्योग शुरू हो पाएगा. मिल मालिक प्रशासन के माध्यम से श्रमिकों को समझाने की कोशिश कर रहे है कि यहां उन्हें पर्याप्त वेतन और सभी आवश्यक सुविधाएं मिलेंगी और अगर घर चले गये तो वहां उनके लिए रोजगार मिलना आसान नहीं होगा.

Read More आईएसआई ने भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए बनाया लश्कर-ए-खालसा!

इसके अलावा रोलिंग मिल मालिकों ने राज्य सरकार से लॉकडाउन के दौरान का बिजली के बिल माफ करने की मांग की है. यदि सरकार ने इन बिलों को माफ नहीं किया तो वे वर्तमान परिस्थितियों में लाखों रुपये के बिलों का भुगतान नहीं कर पाएंगे और रोलिंग मिलों का बिजली कनेक्शन काट दिया जाएगा.

बता दें कि भावनगर में एशिया में सबसे बड़ा जहाज रीसाइक्लिंग उद्योग होने के कारण यहां जिले में रोलिंग मिल और फर्नेस उद्योगों की लगभग 100 इकाइयां हैं. इनमें जहाज से निकले लोहें से लोहे की छड़ और चादर बनाने की इकाइयां हैं. इन रोलिंग मिलों में बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक काम करते हैं. फिलहाल यह इकाइयां लंबे समय से विभिन्न कठिनाइयों का सामना कर रही हैं.

Tags:
Join Us on Telegram
Telegram
Join Us on Whatsapp
Whatsapp
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2  की मौत... खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2  की मौत...
वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे नेशनल पार्क ब्रिज पर  खड्ढे की चपेट में आने के कारण दो बाइक सवार गिर गए पीछे...
मानहानि का मामला: शिवसेना नेता संजय राउत वीडियो कांफ्रेंस के जरिए मुंबई की अदालत में पेश हुए
दही हांडी उत्सव के दौरान शिंदे और उद्धव के समर्थक शक्ति प्रदर्शन के लिए तैयार...
अजित पवार का आरोप... सीएम एकनाथ शिंदे के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद से राज्य में हर दिन 3 किसान आत्महत्या
कीर्ति सुरेश को ग्लैमरस दिखने की कोशिश पड़ी भारी, लोगों ने दिया बेहूदा फैशन का खिताब...
खाने की शिकायत पर बुजुर्ग को जड़ा दिया ऐसा घूंसा, एक महीने बाद मौत...
रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन में हरिहरेश्वर के तट पर एके-47, राइफल और गोलियों के साथ एक अज्ञात नाव मिली

Join Us on Social Media

Videos