मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने किया सेक्सटॉर्शन गिरोह का पर्दाफ़ाश

मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने किया सेक्सटॉर्शन गिरोह का पर्दाफ़ाश

Rokthok Lekhani

मुंबई: मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफ़ाश किया है, जिसने 100 से भी ज़्यादा ए लिस्टेड सेलिब्रिटीज़ को सेक्सटॉर्शन का शिकार बनाया है. चौंकाने वाली बात यह है कि इस गिरोह में एक नाबालिग भी शामिल है. साइबर सेल की डीसीपी रश्मि करंडिकर ने बताया कि इन लोगों के अबतक 285 लोगों को अपना शिकार बनाया है. अब इनके मोबाइल और दूसरे इलेक्ट्रोनिक गैजेट की जांच चल रही है. पुलिस ने इन आरोपियों को महाराष्ट्र के नागपुर, उत्तर प्रदेश, ओड़िसा और गुजरात से गिरफ़्तार किया है.

करंडिकर ने बताया कि आरोपी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लड़कियों के रूप में फर्जी अकाउंट बनाते थे और पुरुषों को लुभाते थे, जिनमें से ज्यादातर हाई-प्रोफाइल और अमीर लोग थे. उन्होंने कहा कि आरोपियों ने 12 फर्जी अकाउंट और छह फर्जी ईमेल आईडी बनाए थीं, जिसका इस्तेमाल कर लोगों से दोस्ती की जाती थी.

आरोपियों ने पूछताछ के दौरान यह भी बताया कि उन्होंने लोगों का विश्वास जीतने के लिए 6-6 महीने तक भी दोस्ती कर रखी थी और एक बार विश्वास जीतने के बाद वे वीडीओ कॉल करते थे और फिर कपड़े निकालने को बोला जाता था. जिसके बाद वह टार्गेट ने कपड़े निकलवाकर उसका स्क्रीनशॉट ले लेते थे और फिर ब्लैक मेलिंग का काम शुरू हो जाता था.

इन आरोपियों ने 100 से ज़्यादा ए लिस्टेड सेलिब्रिटीज़ को अपना निशाना बनाया है, जिसमें बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता का नाम भी शामिल है. इसके अलावा इस गिरोह ने महिला और पुरुष मॉडल को भी अपना निशाना बनाया है. ये गिरोह ज़्यादातर इंस्टाग्राम पर एक्टिव है, जहां पर ये लोग टार्गेट को लुभाने का काम करते थे.

जांच के दौरान आरोपियों ने पुलिस को बताया कि ये लोग पहले उन वीडियो के आधार पर टार्गेट को ब्लैकमेल कर पैसे वसूलते थे और फिर ये लोग ट्विटर पर डीएम के माध्यम से उन वीडियो को बेचा भी करते थे. पुलिस ने बताया कि ये लोग उन वीडियो के ग्रैब को ट्विटर पर पोस्ट करते थे. इसके बाद जिस किसी को उन वीडियो को देखना होता था, वो उन्हें डिरेक्ट मैसेज करते थे और फिर ये लोग हर वीडियो देखने का चार्जेस लिया करते थे.

जांच में यह भी पता चला है कि आरोपियों ने पैसे के लेन-देन के लिए नेपाल स्थित बैंक के एक खाते का इस्तेमाल किया है. जांच एजेंसियों के रेडार से बचने के लिए ये लोग ब्लैकमेल कर मिले पैसों को छिपाने के लिए नेपाल के बैंक का सहारा लेते थे. उन्हें पता है कि अगर पुलिस को पता चला और बैंक अकाउंट भारत का हुआ तो अकाउंट फ्रिज हो जाएगा और पैसे नहीं मिलेंगे. इस वजह से इन लोगों ने भारत के अकाउंट के अलावा एक नेपाल के बैंक अकाउंट का भी सहारा लिया, जिसके ये सारे पैसे जमा कराया करते थे. पुलिस ने अब नेपाल प्रशासन को इस बारे में बताया है ताकि उस बैंक के अकाउंट की डिटेल मिल सके.


Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

जीएसटी से महंगी हुई गणेश प्रतिमाएं जीएसटी से महंगी हुई गणेश प्रतिमाएं
गणेश प्रतिमा के लिए आवश्यक कच्चे माल पर जीएसटी लगाया गया है। इसलिए पीओपी की कीमत में 40 से 50...
मनसे के कार्यकर्ताओं के लिए मार्गदर्शन शिविर
...नहीं पता महाराष्ट्र का असली मुख्यमंत्री कौन है- आदित्य ठाकरे
यूक्रेनी महिलाएं अपने देश के सैनिकों को भेज रहीं न्यूड तस्वीरें-वीडियो ...
मुंबई के शिवाजी पार्क मैदान में बाल ठाकरे का लगाया हुआ पेड़ भारी बारिश के कारण गिर गया
बॉलीवुड इंडस्ट्री के किंग खान ने ली चुटकी, इस शख्स के सामने पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर की भी हो जाती है बोलती बंद...
NCB की छापेमारी, 88 किलो गांज और पांच किलो मेफेड्रोन जब्त...3 गिरफ्तार

Join Us on Social Media

Videos