MLC Election: भाजपा ने जीतीं 6 में से 4 सीटें, शिवसेना से अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीट छीनी

MLC Election: भाजपा ने जीतीं 6 में से 4 सीटें, शिवसेना से अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीट छीनी

मुंबई : महाराष्ट्र विधान परिषद की छह सीटों पर हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी (एमवीए) को झटका देते हुए नागपुर सहित चार सीटों पर जीत दर्ज की। पार्टी ने अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीट शिवसेना से छीन ली।

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़णवीस ने भाजपा की जीत पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि भाजपा ने एमवीए के इस मिथक को तोड़ दिया है कि तीनों दल (शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस) राज्य में मिलकर सभी चुनाव जीत सकते हैं।

चुनाव आयोग ने 10 दिसंबर को महाराष्ट्र विधान परिषद की छह सीटों पर मतदान की घोषणा की थी।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की दो सीटों पर हुए चुनाव में शिवसेना (सुनील शिंदे) और भाजपा (राजहंस सिंह) ने एक-एक सीट पर निर्विरोध जीत हासिल की।

कोल्हापुर और नंदुरबार-धुले विधान परिषद चुनावों में भी कांग्रेस और भाजपा ने क्रमशः एक-एक सीट पर निर्विरोध जीत दर्ज की।

नागपुर तथा अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीटों पर 10 दिसंबर को मतदान हुआ था।

जिला सूचना कार्यालय के अनुसार, नागपुर में पड़े 554 मतों में से भाजपा उम्मीदवार और राज्य के पूर्व ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले को 362 मत मिले, जबकि एमवीए द्वारा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार मंगेश देशमुख को 186 वोट हासिल किये।

मतदान की पूर्व संध्या पर कांग्रेस उम्मीदवार रवींद्र भोयर ने चुनाव लड़ने में असमर्थता व्यक्त की थी, जिसके बाद पार्टी ने देशमुख का समर्थन किया था। हालांकि, बाद में भोयर ने चुनाव लड़ा और उन्हें केवल एक वोट मिला।

अकोला-वाशिम-बुलढाणा में शिवसेना के तीन बार के विधान पार्षद गोपीकिशन बाजोरिया को भाजपा के वसंत खंडेलवाल से हार का सामना करना पड़ा। कुल 808 वोटों में से खंडेलवाल को 443 जबकि बजोरिया को 334 वोट मिले।

फड़णवीस ने कहा, “एमवीए के दल दावा कर रहे थे तीनों दल मिलकर सभी चुनाव जीतेंगे। हमने इस मिथक को चकनाचूर कर दिया है और मुझे लगता है कि इस जीत ने हमारी भविष्य की जीत की नींव रखी है।”

खंडेलवाल ने अपनी जीत का श्रेय अपनी पार्टी की सफल रणनीति को दिया।

बावनकुले ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि एमवीए के पास 240 वोट थे। हालांकि, एमवीए समर्थित उम्मीदवार को केवल 186 वोट मिले।

बावनकुले ने महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले पर निशाना साधते हुए उन पर निरंकुश तरीके से व्यवहार करने का आरोप लगाया और उनके इस्तीफे की मांग की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को आत्ममंथन करना चाहिए कि उनके वोट क्यों बंटे।

उन्होंने कहा, ”दो दिन तक वे खरीद-फरोख्त में लिप्त रहे, फिर भी वे अपनी पार्टी को साथ नहीं रख सके। यह सही मायने में कांग्रेस नेताओं की हार है। कांग्रेस नेता निरंकुश तरीके से व्यवहार कर रहे हैं। नाना पटोले पार्टी की प्रदेश इकाई के काम के लिये उपयुक्त नहीं हैं और उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।”

Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावत को लेकर दिया बड़ा बयान, कुछ भी गड़बड़ होता तो ‘शहीद’ हो गये होते मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावत को लेकर दिया बड़ा बयान, कुछ भी गड़बड़ होता तो ‘शहीद’ हो गये होते
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा है कि अगर शिवसेना नेतृत्व के खिलाफ उनके विद्रोह के दौरान कुछ गड़बड़...
मलाड की 27 वर्षीय महिला को यूके के दोस्त से मिला धोखा, लगा दिया लाखों का चूना...
मुंबई के माहिम स्थित मीठी नदी में दो युवक डूबे, एक की लाश बरामद और दूसरे की तलाश जारी
मुंबई में नेट फिल्टर तकनीक से होगा खाड़ी का कचरा साफ, मालाड ख़ाडी से शुरुआत...
बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह से मुंबई पुलिस नग्न फोटोशूट मामले में करेगी पूछताछ...
कांदिवली पश्चिम में 63 लाख वाली ऑडी 34 लाख रुपए में खरीद रहे थे डॉक्‍टर साहब, ठग ने लगाया 25 लाख का चूना...
महाराष्ट्र में बीजेपी ने संगठन में बड़ा फेरबदल...चंद्रशेखर बावनकुले प्रदेश महाराष्ट्र अध्यक्ष

Join Us on Social Media

Videos