सनी लियोनी से नाराज हुए देवकीनंदन ठाकुर

सनी लियोनी से नाराज हुए देवकीनंदन ठाकुर

वृन्दावन के प्रख्यात कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर महाराज इन दिनों “मधुबन में राधिका नाचे” भजन की इस लाइन पर पॉर्न स्टार सनी लियोनी के अश्लील डांस की वजह से क्रोध में हैं। विश्व शांति सेवा समिति द्वारा मुंबई में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के आयोजन के दौरान उन्होंने दैनिक भास्कर से बात करते हुए हिंदुत्वादी पार्टियों से तीखे सवाल पूछे हैं।

कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर महाराज ने भाजपा और शिवसेना जैसी किसी भी हिंदुत्वादी पार्टी का नाम लिए बिना कहा- हमारे राधा-कृष्ण का अपमान होने पर राजनीतिक पार्टियां चुप क्यों रहती हैं। यदि आप हिंदुत्व पर काम करते हैं, तो राधारानी का अपमान होने पर आपको आवाज उठानी चाहिए।

एक पॉर्न स्टार जिसका पिछला चरित्र अश्लीलता से भरा है। वह राधारानी का नाम लेकर टांग दिखाकर और अश्लील हाव-भाव कर आपत्तिजनक ढंग से डांस करती और समूचा हिंदु समाज चुप बैठता है। यह सही नहीं है।

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, ‘यदि ऐसा ही अश्लील डांस किसी मुस्लिम या ईसाई धर्म के प्रसिद्ध देवी-देवता के नाम पर हुआ होता, तो क्या वह समुदाय चुप बैठा होता? यदि हम हिंदू हैं, तो हमें हमारे धर्म- देवी-देवातओं के सम्मान की रक्षा-सुरक्षा करना ही राष्ट्र की रक्षा है।’

उन्होंने कहा कि राधाजी का नाम लेकर एक भजन पर अश्लील डांस कराया जा रहा है। यह बहुत ही शर्म की बात है। इस गाने में हमारी किशोरीजी और कृष्णजी का नाम लिया जा रहा है। वह टांग दिखा दिखा कर अश्लील डांस रही है।

ऐसा करने वालों को मेरी चुनौती है कि यदि हिम्मत है कि तुम किसी गान पर ‘आयशा’ या ‘सकीना’ का नाम लेकर ऐसा ही डांस करके दिखा दो। हम हमारी राधारानी का यह अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते। लोगों में जमीर बचा है या मर गया है? यह सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि क्या लोगों के भीतर हिंदुत्व जिंदा है या नहीं?

हिंदूराष्ट्र बनाने के लिए एक बहुत बड़ी मुहिम चलने की आवश्यकता
हिंदूराष्ट्र बनाने के लिए एक बहुत बड़ी मुहिम चलने की आवश्यकता बताते हुए मशहूर कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर महाराज ने कहा कि इस देश को बचाने के लिए प्रदेश और केंद्र की सरकार को कड़े निर्णय लेने चाहिए। यदि देश की सुरक्षा के लिए आउट ऑफ वे भी जाना पड़े तो सरकारों को जाने से हिचकिचाना नहीं चाहिए।

उन्होंने इस देश के धर्मनिरपेक्ष होने और डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के लिखे संविधान के अनुरुप चलने के सवाल पर कहा, “देश बड़ा है या सेकुलरिज्म। सेकुलरिज्मता यदि देश के लिए हैं, तो जब देश ही नहीं बचेगा, तो सेकुलरिज्मता झंडा कहां गाड़ोगे?

इस देश को नेताओं की नहीं इस समय किसी चाणक्य की जरूरत है। जो देश, धर्म और आने वाली पीढ़ि के लिए सोचे। देश को एक ऐसा चाणक्य चाहिए। जिसका निज स्वार्थ कुछ न हो। ऐसा चाणक्य चाहिए जो अपनी जान की परवाह न करते और देश के लिए कुछ करने की जिद रखता हो।

उन्होंने कहा कि एज्युकेशन सिस्टम में बदलाव की आवश्यकता है ताकि हमारे बच्चे बचपन से सनातनी बनें। क्योंकि इस समय अधिकांश लोग भ्रष्टाचारवादी और वैविचारी हो गए हैं।

Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार... भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार...
वसई-विरार और नालासोपारा में देर रात से जोरदार बारिश हो रही है। भारी बारिश के कारण लोग अपने घरों में...
प्रधानमंत्री की दौड़ में ऋषि सुनक की जीत के लिए ब्रिटेन में हो रही हवन, जानिए पीएम रेस में कितनी बढ़त...
एक्टर राणा दग्गुबाती ने इंस्टाग्राम को कहा अलविदा, डिलीट किए सारे पोस्ट...
BMC की 50 लाख तिरंगे बांटने की है योजना, मुंबई में हर घर लहराएगा तिरंगा...
गांव जाने से पत्नी करने लगी मना, सनकी पति ने अपनी पत्नी पर चाकू से कर दिया हमला...
महाराष्ट्र कैबिनेट की मेट्रो 3 परियोजना की लागत में बढ़ोतरी के लिए मिल सकती है मंजूरी...
सुप्रिया सुले महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में महिलाओं को जगह न मिलने से नाखुश...

Join Us on Social Media

Videos