मुंबई : अवैध रूप से टिकट बुक कराने वालों पर रेलवे का ऐक्‍शन

मुंबई  : अवैध रूप से टिकट बुक कराने वालों पर रेलवे का ऐक्‍शन

मुंबई रेलवे हमेशा चेतावनी देती है कि अवैध रूप से टिकट बुक न कराए, लेकिन सीजन में टिकट नहीं मिलने पर यात्री इसका शिकार बन ही जाते हैं। कई बार आपके आसपास टिकट बुकिंग के नाम पर एजेंट अवैध तरीके से टिकट की बुकिंग कर देते हैं। साल 2021 में पश्चिम और मध्य रेलवे पर इस तरह की टिकटों पर हुई कार्रवाई में करीब 15 हजार लोगों ने अपने हजारों रुपये गंवा दिए और यात्रा भी नहीं कर पाए।

पश्चिम और मध्य रेलवे पर कार्रवाई के दौरान 5,490 लाइव टिकट को सीज किया गया। लाइव टिकट वह हैं, जिन पर यात्रा की जानी है। इन टिकट की कीमत 96.99 लाख रुपये की है। इनमें से 3171 लाइव टिकट की बुकिंग मुंबई डिविजन से की गई थी। एक रेलवे अधिकारी ने बताया कि एक टिकट का मतलब एक पीएनआर होता है, जिसमें औसतन तीन यात्री शामिल थे। कार्रवाई के बाद जब टिकट सीज किए जाते हैं, तो सभी टिकट अवैध घोषित हो जाते हैं, जिनकी रकम रेलवे में जमा हो जाती है।

रेलवे ने टिकट बुकिंग के लिए बुकिंग खिड़कियों के अलावा वैध टिकट दलाल बनाए हुए हैं। लेकिन, आईआरसीटीसी के जरिए किसी तीसरे व्यक्ति द्वारा जब टिकट बुक की जाती है, तब अलर्ट रहने की जरूरत है। ऐसे दलाल कन्फ़र्म टिकट देने के नाम सॉफ्टवेयर इत्यादि का इस्तेमाल करते हैं। फेक ईमेल आईडी के जरिए टिकटों की बुकिंग करते हैं। इस तरह से प्राप्त की गई टिकट अवैध मानी जाती है। ऐसे टिकट पर यात्रा करने पर टिकट निरीक्षक द्वारा ₹250 का जुर्माना लगाने के लिए उस टिकट को रद्द कर दिया जाता है और यात्री को नई टिकट के शुल्क देने होते है

इन अवैध दलालों पर रेल अधिनियम की धारा 143 के कानूनी प्रावधानों के तहत कार्रवाई होती है। क्योंकि, कार्रवाई रेलवे सुरक्षा बल द्वारा होती है, इसलिए अपराधियों पर आईपीसी नहीं लगाया जाता। नतीजतन पकड़े जाने पर दलालों को रेलवे कोर्ट में पेश किया जाता है, जहां मामूली जुर्माना देकर वह छूट जाते हैं। बहरहाल, टिकटों की बुकिंग किस तरह होती है, इस पर नजर रखने के लिए आरपीएफ की एक्स्पर्ट टीमें लगी रहती हैं। ये टीमें सॉफ्टवेयर इत्यादि की मदद से अवैध टिकटों को ट्रैक करती हैं।
आरपीएफ के अधिकारी के अनुसार इसमें मुख्य अपराध है अवैध आईडी बनाकर टिकट बुक करना। इसीलिए ऐसी आईडी ब्लॉक कर दी जाती है, ताकि भविष्य में बुकिंग न हों। पश्चिम रेलवे के अधिकारी के मुताबिक पूर्व में किए गए अपराध और वर्तमान में हुई हलचल के आधार पर संदेहजनक आईडी की लिस्ट तैयार हो जाती है। इनमें से किसी भी आईडी पर कोई बुकिंग होती है, तो कार्रवाई की जाती है।

मुंबई में सबसे ज्यादा यूपी और बिहार के ट्रेनों की डिमांड होती है। इसका उदाहरण है कि पिछले साल रेलवे की विशेष टीम ने कार्रवाई की तब 02533 लखनऊ जंक्शन-सीएसएमटी, 01094 वाराणसी-सीएसएमटी और 02541 गोरखपुर-लोकमान्य तिलक टर्मिनस में टिकट धांधली के कुल 420 मामले सामने आए। आरपीएफ की ऐंटि-टाउट स्क्वॉड द्वारा रेन नंबर 02142 -पाटलिपुत्र-एलटीटी में दिनांक 3 सितंबर पर एक विशेष चेकिंग के दौरान अनियमित यात्रा के 61 मामलों का पता लगाया गया। इसके तहत सिस्टम द्वारा ई-टिकट पर टिकट के अनुचित रूपांतरण के 36 मामले, वरिष्ठ नागरिक कोटा के दुरुपयोग के 10 मामले, टिकट के हस्तांतरण के 8 मामले और बिना टिकट यात्रा करने के 7 मामले शामिल थे।

Tags:
Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार... भारी बारिश के कारण तालाब में तब्दील हुआ वसई-विरार...
वसई-विरार और नालासोपारा में देर रात से जोरदार बारिश हो रही है। भारी बारिश के कारण लोग अपने घरों में...
प्रधानमंत्री की दौड़ में ऋषि सुनक की जीत के लिए ब्रिटेन में हो रही हवन, जानिए पीएम रेस में कितनी बढ़त...
एक्टर राणा दग्गुबाती ने इंस्टाग्राम को कहा अलविदा, डिलीट किए सारे पोस्ट...
BMC की 50 लाख तिरंगे बांटने की है योजना, मुंबई में हर घर लहराएगा तिरंगा...
गांव जाने से पत्नी करने लगी मना, सनकी पति ने अपनी पत्नी पर चाकू से कर दिया हमला...
महाराष्ट्र कैबिनेट की मेट्रो 3 परियोजना की लागत में बढ़ोतरी के लिए मिल सकती है मंजूरी...
सुप्रिया सुले महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में महिलाओं को जगह न मिलने से नाखुश...

Join Us on Social Media

Videos