Delhi IED: गाजीपुर फूल मंडी इलाके से बरामद किए गए आईईडी मामले में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

Delhi IED:  गाजीपुर फूल मंडी इलाके से बरामद किए गए आईईडी मामले में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

नई दिल्ली: गाजीपुर फूल मंडी और सीमापुरी इलाके से बरामद किए गए आईईडी के मामले में स्पेशल सेल को एक महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगा है. स्पेशल सेल ने जांच के दौरान उस बाइक का पता खोज निकाला है, जिसके जरिए आईईडी लाया गया था. पुलिस का दावा है कि इस बाइक के माध्यम से ही स्लीपर सेल के आतंकी आईईडी को गाजीपुर फूल मंडी तक लेकर गए थे. पुलिस को इस बाइक का सुराग लगभग 800 सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद मिला. पुलिस के सामने उन आतंकियों का पता लगाना सबसे महत्वपूर्ण काम है, जो आईईडी के माध्यम से दिल्ली को दहलाने की कोशिश कर रहे थे.

स्पेशल सेल के सूत्रों के अनुसार गाजीपुर फूल मंडी के गेट पर जब आईईडी बरामद किया गया तो पुलिस ने लगभग 800 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने का काम शुरू किया था. उसी दौरान पुलिस को एक काले रंग की स्प्लेंडर बाइक नजर आई थी, जिस पर 2 लोग सवार थे. उनके हाथ में एक बैग दिख रहा था. पुलिस ने क्रमानुसार उन सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला और पाया कि वह बाइक दिलशाद गार्डन और सीमापुरी की तरफ देखी गई है. इसके बाद पुलिस ने उस बाइक को तलाशने का काम जारी रखा और इसी दौरान दिलशाद गार्डन मेट्रो स्टेशन की पार्किंग से उस बाइक को लावारिस हालत में बरामद भी कर लिया. बाइक काफी दिनों से उस पार्किंग में खड़ी हुई थी

पुलिस का कहना है कि फिलहाल उन आतंकियों की तलाश की जा रही है, जो आईडी को गाजीपुर फूल मंडी में रख कर आए थे और साथ ही सीमापुरी के डी ब्लॉक में भी एक घर के अंदर आईडी के साथ छिपे हुए थे. पुलिस उन आतंकियों का स्केच भी तैयार करवा रही है. इस काम में उस प्रॉपर्टी डीलर की मदद ली जा रही है, जिसके माध्यम से आतंकियों ने मकान किराए पर लिया था. इसके साथ ही सीमापुरी डी ब्लॉक के मकान मालिक से भी आतंकियों के हुलिए के बारे में पूछताछ की जारी है.

दिलशाद गार्डन मेट्रो स्टेशन की पार्किंग के अटेंडेंट भूरे यादव ने बताया कि चार-पांच दिन पहले पुलिस छानबीन करते हुए आई थी और उसी दौरान पुलिस ने काले रंग की बाइक को बरामद किया था. भूरे यादव का कहना है कि बाइक काफी दिनों से पार्किंग में खड़ी हुई थी. उन्होंने यह भी बताया कि जब भी कोई बाइक आदि पार्किंग में आती है, तो अटेंडेंट उसे पर्ची काट कर दे देते हैं.

हर 15 से 20 दिन में पुलिस पार्किंग में चेकिंग के लिए आती है और अगर कोई ऐसा वाहन पार्किंग में मौजूद होता है, जो लंबे समय से लावारिस हालत में खड़ा है, तो उसकी जानकारी पुलिस को दे दी जाती है. उसके बाद पुलिस को जो भी कार्रवाई करनी होती है, पुलिस अपनी कार्रवाई करती है. पुलिस का कहना है कि दिलशाद गार्डन मेट्रो स्टेशन की पार्किंग से बरामद की गई काले रंग की स्प्लेंडर बाइक साल 2020 में शास्त्री पार्क इलाके से चोरी की गई थी.

Join Us on Dailyhunt
Follow us on Daily Hunt
Follow Us on Google News
Follow us on Google News
Download Android App
Download Android App

Join Us on Social Media

Post Comment

Comment List

Join Us on Social Media

Latest News

स्वतंत्रता दिवस पर बोले रूसी राष्ट्रपति पुतिन, भारत को विश्व मंच पर काफी प्रतिष्ठा हासिल है स्वतंत्रता दिवस पर बोले रूसी राष्ट्रपति पुतिन, भारत को विश्व मंच पर काफी प्रतिष्ठा हासिल है
दुनियाभर में भारतीयों ने सोमवार को उत्साह के साथ भारत का 76वां स्वतंत्रता दिवस मनाया। इस दौरान दुनियाभर के नेताओं...
विकसित भारत बनाने के लिए PM ने सेट किया टारगेट...भ्रष्टाचार खत्म करने के साथ परिवारवाद पर बोला हमला
भारत 75वां स्वतंत्रता दिवस पर अमिताभ बच्चन ने साइन लेंग्वेज में गाया राष्ट्रगान...
अरिजीत सिंह एक बार फिर आए फैंस के बीच चर्चा में, समाज कल्याण के लिए उठाया ये कदम...
बार-बार तबादला, मनपा अधिकारियों में नाराजगी...
कोलाबा-बांद्रा-सीप्ज मेट्रो-३ का काम ९८.९ फीसदी बनकर तैयार...
एनसीबी अधिकारी समीर वानखेडे ने राकांपा नेता नवाब मलिक पर किया केस, एससी-एसटी एक्ट की धाराएं लगाईं...

Join Us on Social Media

Videos