बृह्नमुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने शहर में बंद में दी गई छूट को वापस लेने का निर्णय किया

मुंबई : देश में कोरोना वायरस महामारी की चपेट में सबसे ज्यादा महाराष्ट्र राज्य है। यहां पर लगातार संक्रमितों के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए मुंबई प्रशासन ने सख्त कदम उठाया है। मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए बृह्नमुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने शहर में बंद में दी गई छूट को वापस लेने का निर्णय किया है।

बीएमसी की ओर से रात जारी एक आदेश के अनुसार केवल किराने और दवा की दुकानों को छह मई से खोलने की अनुमति दी जाएगी। इसमें कहा गया है कि महाराष्ट्र सरकार ने कुछ गैर जरूरी सेवाओं को शुरू करने और दुकानों को खोलने की इजाजत दी थी उसे वापस लिया जाता है।

इस आदेश में बीएमसी ने कहा कि उसे डर है कि कुछ गैर जरूरी सेवाओं को शुरू करने की इजाजत से मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के हालात और खराब हो सकते हैं। इसलिए शहर को दी गई रियायतें वापस ली जाती है। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने सोमवार से शराब की दुकानों सहित अनेक गैर जरूरी सेवाओं को शुरू करने की अनुमति दी थी, जिसके बाद बड़ी संख्या में लोग दुकानों पर पहुंचने लगे।और सामाजिक दूरी जैसे महत्वपूर्ण नियमों का उल्लंघन होते दिखाई दिया।

आपको बता दें मुंबई में कोरोना वायरस के 635 नये मामले सामने आये जिससे संक्रमित लोगों की संख्या 9,758 हो गयी, जबकि वायरस के कारण हुयी 26 मौतों के साथ इससे मरने वालों की संख्या 387 हो गयी है। बीएमसी के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी।

यह भी पढ़ें :

लॉकडाउन में भदोही से मुंबई के लिये पैदल निकली पत्नी , पति ने जहर खाकर दी जान

महाराष्ट्र में गहराया संकट, मंत्री जितेंद्र अव्हाड़ के संपर्क में आए कई नेता कोरोना पॉजिटिव

अधिकारी ने बताया कि 635 नये मामलों में से 120 मरीजों में एक से तीन मई के बीच विभिन्न निजी प्रयोगशालाओं में संक्रमण की पुष्टि हुयी। उन्होंने बताया कि शहर के विभिन्न अस्पतालों में 406 नये संदिग्ध भर्ती कराये गये हैं। अधिकारी ने बताया कि इलाज के बाद 220 मरीजों को छुट्टी दे दी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.