सरकार ने भारतीय विमानों को खाड़ी, ईरान और इराक के एयर स्पेस से बचने की दी सलाह

Iran-US Conflict: ईरानी सैन्य जनरल कासिम सुलेमानी (General Qasem Soleimani) की मौत के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव गहरा (America-Iran Conflict) गया है. बुधवार को ईरान ने इराक (Iraq) में स्थित अमेरिकी सैन्य बेस (American Military Base) पर कई मिसाइल (Missile) दागीं. हालांकि अभी तक इस बात का पता नहीं लगा चला कि इस मिसाइल हमले में अमेरिका को कितना नुकसान हुआ. हालांकि अमेरिका ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अपने विमानों के खाड़ी समेत ईरान और इराक के एयरस्पेस में जाने पर रोक लगा दी.

इस हमले के कुछ घंटों बाद ही ईरान की राजधानी तेहरान (Tehran) के यूक्रेन (Ukraine) का एक यात्री विमान क्रैश (Plane Crash) हो गया. हालांकि इस विमान के क्रैश होने का कारण इस तनाव को नहीं माना जा रहा है. विमान के क्रैश होने के बाद जानकारी दी गई कि ये विमान किसी तकनीकी खामी के चलते दुर्घटना का शिकार हो गया. हालांकि जानकार इस विमान के क्रैश होने को हल्के में नहीं ले रहे और मान रहे हैं कि ईरान अमेरिका से बदला लेने के लिए यात्री विमानों को भी निशाना बना सकता है.

भारत ने भी इस ईरान और अमेरिका के बीच पैदा हुए तनाव को गंभीरता से लिए है और अपने विमानों को खाड़ी सहित ईरान-इराक के वायु क्षेत्र में न जाने की सलाह दी है. भारत ने कहा है कि भारतीय विमान खाड़ी में बढ़े तनाव के चलते खाड़ी, ईरान और इराक के वायु क्षेत्र से बचें.

वहीं भारतीय विदेश मंत्रालय ने ईरान-अमेरिका तनाव के बीच कहा है कि बगदाद और इरबिल में स्थित हमारे दूतावास सामान्य रूप से काम कर रहे हैं और ईराक में रह रहे अपने सभी नागरिकों को सभी सुविधाएं पहुंचा रहे हैं. हालांकि विदेश मंत्रालय ने देश के नागरिकों को सलाह दी है कि वह अग्रिम सूचना तक जब तक जरूरी ना हो तब तक इराक की यात्रा न करें. साथ ही इराक में रहे रहे अपने नागरिकों को भी इराक के अंदरूनी इलाकों में बेवजह यात्रा न करने की सलाह दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.