4 महीने की बच्‍ची का किडनैप 4 लाख में बेचा अपहरणकर्ता ने

मुंबई चार महीने की एक बच्ची का अपहरण कर उसे तमिलनाडु निवासी एक सिविल इंजिनियर के हाथों 4 लाख 8 हजार रुपये में बेचने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जोन-2 के तहत वीपी मार्ग पुलिस ने इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक, 3 जनवरी को 50 वर्षीय अनवारी अब्दुल शेख नाम की एक महिला ने वीपी रोड पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनकी 4 महीने की बेटी को इब्राहिम अल्ताफ शेख ने अपहरण कर लिया है

पुलिस ने इब्राहिम के खिलाफ अपहरण और मानव तस्करी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी। इस मामले की जांच कर रहे एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तकनीकी जानकारी एवं मुखबिर की मदद से पुलिस ने आरोपी इब्राहिम अल्ताफ शेख को गिरफ्तार कर लिया। उससे हुई पूछताछ के आधार पर पुलिस ने करीब आधा दर्जन टीमें बनाकर सायन, धारावी, मालाड, जोगेश्वरी, नागपाड़ा, कल्याण और ठाणे स्थित मुंबई के विभिन्न इलाकों में छापेमारी की। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने दो महिलाएं और चार पुरुषों को गिरफ्तार किया। इन आरोपियों से हुई पूछताछ में जानकारी मिली कि उन्होंने बच्ची को तमिलनाडु के एक व्यक्ति को 4 लाख 8 हजार रुपये में बेच दिया है।

साउथ रीजन के एडिशनल सीपी दिलीप सावंत और जोन 2 के डीसीपी डॉ. सौरभ त्रिपाठी के मार्गदर्शन में सीनियर पीआई संध्या रानी भोसले ने 2 टीमें बनाकर तमिलनाडु भेजा। इसका नेतृत्व दिलीप तांबे और अभिजीत देशमुख कर रहे थे। इन्होंने वहां के तीन जिले में चार दिनों तक तलाशी अभियान चलाया। यह टीम कोयंबटूर के सेलवनपट्टी इलाके से एक महिला और चार पुरुषों को गिरफ्तार कर उन्हें ट्रांजिट रिमांड पर मुंबई लाने में कामयाब रही। तमिलनाडु से गिरफ्तार इन आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने बच्ची को सेलवनपट्टी में रहने वाले सिविल इंजीनियर आनंद कुमार नागराजन को बेच दिया था। पुलिस ने नागराजन को भी गिरफ्तार कर लिया है
जांच के दौरान पता चला है कि आरोपी इब्राहिम शेख अपहृत बच्ची की मां के साथ लिव-इन रिलेशन में था। इसलिए इब्राहिम ने पुलिस के सामने दावा किया है कि वह बच्ची का पिता है। इसलिए पुलिस अब इब्राहिम शेख का डीएनए परीक्षण कर उसके दावे की जांच कर रही है। हालांकि, शिकायतकर्ता महिला जो खुद को इस बच्ची की मां कह रही थी, वह भी एक दिसंबर से गायब है। बताया जा रहा है कि वह किसी काम से बाहर गई थी, लेकिन अब तक वापस नहीं लौटी है। मां की अनुपस्थिति में पुलिस ने बाल कल्याण सुरक्षा समिति के आदेश पर बच्चों के लिए पंजीकृत एक संस्था को यह बच्ची सौंप दी है। मामले की जांच वीपी रोड पुलिस कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.