शिक्षक पात्रता परीक्षा में गड़बड़ी! एमएससीई के पूर्व आयुक्त चढ़ा पुलिस के हत्थे, करोड़ों रुपए और बेहिसाब संपत्ति बरामद

पुणे : पुलिस ने महाराष्ट्र राज्य परीक्षा परिषद (एमएससीई) के पूर्व आयुक्त सुखदेव डेरे और एक सॉफ्टवेयर कंपनी के तत्कालीन प्रबंधक को 2018 शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में गड़बड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसी कंपनी ने परीक्षा आयोजित की थी।

पुणे पुलिस की साइबर एवं आर्थिक अपराध शाखा के एक अधिकारी ने बताया कि 2020 शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में कथित गड़बड़ी के मामले में जारी जांच के दौरान मिली जानकारियों के आधार पर पुलिस ने सोमवार रात डेरे को हिरासत में लिया। इसी मामले में एमएससीई के आयुक्त तुकाराम सुपे को पिछले हफ्ते गिरफ्तार किया गया था।

अधिकारी ने कहा, ‘‘ 2018 शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में गड़बड़ी में डेरे की कथित संलिप्तता को लेकर उनके खिलाफ अलग से मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच चल रही है।’’

अधिकारियों ने पहले बताया था कि पुणे पुलिस ने टीईटी की परीक्षा देने वाले छात्रों को उत्तीर्ण कराने का वादा कर उनसे पैसे लेने के आरोप में सुपे और कुछ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने सुपे के पास से दो करोड़ रुपये से अधिक की बेहिसाबी नकदी और सोने के जेवर भी बरामद किए थे।

महाराष्ट्र आवास एवं क्षेत्र विकास प्राधिकरण (म्हाडा) परीक्षा पत्र लीक करने की कोशिश से जुड़े मामले की जांच के दौरान 2020 टीईटी परीक्षा में गड़बड़ी का मामला सामने आया था। इस मामले में अभी तक छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के अनुसार डेरे और जीए सॉफ्टवेयर के तत्कालीन प्रबंधक अश्विन कुमार ने 2018 में शिक्षक पात्रता परीक्षा के परिणाम में छेड़छाड़ करने के लिए कथित रूप से पैसे लिए थे। जीए सॉफ्टवेयर को ही यह परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी।

पुलिस ने कहा कि 2020 की टीईटी परीक्षा की जांच के दौरान 2018 की टीईटी परीक्षा की कथित गड़बड़ी सामने आयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.