शरद पवार ने कहा दुर्भाग्यपूर्ण है कि सत्ता में बैठे लोगों ने फिल्म द कश्मीर फाइल्स का प्रचार किया

अमरावती:राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी राकांपा प्रमुख शरद पवार ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सत्ता में बैठे लोगों ने फिल्म का प्रचार किया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने रविवार को यहां राकांपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दावा किया कि समाज में धर्म के आधार पर दरार पैदा करने की कोशिश की जा रही है। राकांपा प्रमुख ने कहा कि जब ईंधन के दाम और महंगाई अत्यधिक तेजी से बढ़ रही है, तो ‘‘उचित एवं तार्किक मुद्दों’’ से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश की जा रही है।

उन्होंने कहा, ‘‘फिल्म में दिखाया गया कि कैसे हिंदुओं का उत्पीड़न किया गया… जब कभी कोई छोटा समुदाय समस्या का सामना करता है, तो बहुसंख्यक समुदाय उस पर कैसे हमला करता है। यदि बहुसंख्यक समुदाय मुस्लिम है तो हिंदू समुदाय असुरक्षा की भावना महसूस करता है।

पवार ने कहा, ‘‘इस प्रकार की असुरक्षा पैदा करने के लिए आज सुनियोजित साजिश रची जा रही है। दुर्भाग्य से, देश की सत्ता में बैठे नेताओं ने लोगों से यह फिल्म देखने की अपील की।

उन्होंने देश में साम्प्रदायिक हालात पर भी चिंता व्यक्त की।
पवार ने कहा, ‘‘भाजपा कश्मीरी पंडितों पर हमलों को लेकर जिम्मेदारी से नहीं भाग सकती। हिंदुओं और मुसलमानों के बीच दरार पैदा की जा रही है, जो चिंताजनक बात है, इसलिए जो लोग समाज के हर वर्ग के हितों की रक्षा करने में भरोसा करते हैं, उन्हें एकजुट होकर आगे आना चाहिए।