फुटपाथ पर रहने वालों बच्चों को पढ़ा-लिखा रही महिला की कहानी

भारत समेत पूरी दुनिया में इस समय कोरोना और ओमिक्रोन संकट से जूझ रहा है पिछले 2 साल से इसके कारण लोगो की ज़िंदगी बेहाल होगयी है, हताशा और निराशा के इस माहौल में भी कुछ ऐसे लोग है जो अपने जज्बे से दूसरों की मदद कर रहे है, आज हम आपको एक ऐसे ही युवती से मिलाने जा रहे है जो संकट की इस घड़ी में देवदूत बनकर लोगों की मदद कर रही हैं.

गोवा की रहने वाली डॉ योगिता शेट्टी सरकारी कामकाज के बाद सामाजिक काम भी करती हैं, पुणे के खराड़ी इलाके में पिछले 4 साल से वी रह रही है, अपने माता-पिता से प्रेरणा लेकर वो बच्चपन से ही मदद करने का शोक रखती है, इस महामारी और संकट में अबतक उन्होंने 1 हज़ार से ज्यादा मरीज़ों की मदद करी है और फुटपाथ पे रहने वाले बच्चों को शिक्षा भी दे रही हैं.

सोशल मीडिया के माध्यम से ट्विटर पे उनके साथ लोग जुड़ते गए एवं मदद करना शुरू होगया, संध्या फर्नांडीस, चंदू और उदय मिश्रा ने उनका हमेशा साथ दिया है इस काम में ।

मुम्बई दिल्ली पुणे ग्रुप के सभी लोग मदद करने लगे, योगिता पुणे में महामारी के समय परेशान लोगों के घर सौदा वा आर्थिक मदद करने लगी वही अस्पताल में बेड मुहैया कराया और ऑक्सीजन  दिलाया .

कोरोना वायरस के वजा से सरकार ने ऑनलाइन पढ़ाई का फैसला लिया अब ऑनलाइन पढ़ाई के लिए जरूरी नही सभी स्टूडेंट के पास एंड्राइड फ़ोन हो, फुटपाथ पे रहने वाले बच्चें के पास फ़ोन उपलब्ध नही था ऐसे में योगिता उनके घर जा कर शिक्षा दे रही है 25 से अधिक बच्चों को वो पढ़ा रही है .

Leave a Reply

Your email address will not be published.