चेंबूर ACP पुलिस आयुक्त शालिनी शर्मा के खिलाफ वसूली का मामला दर्ज

मुंबई: मायानगरी के पूर्वी उपनगर चेंबूर में एक महिला से कथित तौर पर उगाही के आरोप में दो पुलिसकर्मियों समेत तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक चेंबूर पुलिस स्टेशन में सहायक पुलिस आयुक्त एसीपी शालिनी शर्मा, निलंबित इंस्पेक्टर अनिल जाधव और एक शख्स राजू सोंताके के खिलाफ गुरुवार को प्राथमिकी दर्ज की गई। शिकायतकर्ता इवेंट मैनेजमेंट के व्यवसाय में हैं। उनके अनुसार, आरोपियों ने पिछले साल 24 फरवरी को उनसे रकम मांगी थी।

सूत्रों के मुताबिक आरोपियों ने शिकायतकर्ता से कथित तौर पर दो लाख और 50 लाख रुपये की मांग की थी। उन्होंने कहा, ‘मुंबई पुलिस की अपराध शाखा की यूनिट-6 ने शिकायत की जांच की। उसके बाद धारा 389 और आईपीसी के अन्य प्रासंगिक प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

महाराष्ट्र के पूर्व चीफ सेक्रेटरी सीताराम कुंटे ने ईडी को स्टेटमेंट दिया है कि तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख अक्सर उन्हें पुलिस अधिकारियों के ट्रांसफर के लिए एक ‘अनऑफिशल लिस्ट’ सौंपते थे। उन्होंने कहा है, ‘मैं उनका मातहत था, इसलिए उस लिस्ट को मानने से इनकार नहीं कर पाता था।’ कुंटे के ये खुलासे अनिल देशमुख के खिलाफ दायर चार्जशीट का हिस्सा हैं।

कुंटे ने ईडी से पूछताछ में उस दौर का जिक्र किया है, जब वह चीफ सेक्रेटरी बनने से पहले गृह विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव होने के नाते देशमुख के अंडर में काम करते थे। उन्होंने कहा कि ‘अनऑफिशल लिस्ट’ में लिखे अधिकांश नाम अंतिम स्थानांतरण आदेश में भी शामिल रहते थे।

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने देशमुख और अन्य के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। उसके बाद सीबीआई ने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया था। फिर ईडी ने भी देशमुख व अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था।

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख ने प्रवर्तन निदेशालय ईडी को दिए अपने बयान में दावा किया है कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह उद्योगपति मुकेश अंबानी के मुंबई में स्थित आवास ‘एंटीलिया’ के पास पिछले साल विस्फोटकों वाली कार मिलने की घटना के ‘मास्टरमाइंड’ थे। देशमुख का दावा धनशोधन मामले में ईडी के पूरक आरोप पत्र का हिस्सा है जिसमें एनसीपी के वरिष्ठ नेता और उनके दो बेटों को आरोपी बनाया गया है। पूरक आरोप-पत्र पिछले साल दिसंबर में मुंबई की एक अदालत में दायर किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.