बीएमसी के आगामी चुनाव से पहले आयकर विभाग ने शिवसेना के पार्षद और उनकी विधायक पत्नी के ठिकानों पर छापा मारा

मुंबई : बीएमसी के आगामी चुनाव से पहले आयकर विभाग ने शिवसेना के पार्षद और उनकी विधायक पत्नी के ठिकानों पर शुक्रवार को छापा मारा. मेयर किशोरी पेडनेकर ने आईटी के इस कार्रवाई की निंदा की है. आयकर विभाग की टीम ने निगम पार्षद यशवंत जाधव और उनकी पत्नी यामिनी जाधव के मझगांव वाले घर पर छापा मारा. आयकर विभाग की टीम ने बाइकुला में जाधव दंपती के कारोबारी सहयोगियों के ठिकानों पर भी छापा मारा है.

जाधव बीएमसी की स्थायी समिति केअध्यक्ष है धव पर आरोप लगाया है कि उसने नगर निगम के ठेकेदारों से 15 करोड़ रुपये से अधिक की रिश्वत ली और उन्हें बड़े ठेके दिये. उसने बाद में उसने इस पैसे को कारोबारी सहयोगियों के माध्यम से भारत और संयुक्त अरब अमीरात की शेल कंपनियों में हस्तांतरित कर दिया. ये कंपनियां कथित रूप से उसके परिजनों और रिश्तेदारों के नाम पर हैं.

मेयर पेडनेकर जाधव दंपती से मिलने गये लेकिन उन्हें पुलिस ने दरवाजे पर ही रोक दिया और पार्टी कार्यकर्ताओं से शांत रहने की अपील की.

केंद्रीय एजेंसियां का इस्तेमाल हमें परेशान करने के लिये किया जा रहा है उन्होंने कहा कि महा विकास अघाड़ी के कई नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है लेकिन वे उनके सामने झुकेंगे नहीं. अदालत ने उन्हें बरी किया है और अब दोबारा उन्हें राजनीति में लाया जा रहा है.

आम आदमी पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष रुबेन मैसकेरेनहैस ने जाधव को देश के सबसे भ्रष्ट राजनीतिज्ञों में से एक कहा जबकि भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता आशीष शेलर ने कहा कि जल्द ही भ्रष्टाचार के और मामले सामने आयेंगे. आप नेता रुबेन ने कहा कि आयकर विभाग को भाजपा, शिवसेना, राकांपा के नेताओं को भी अपनी जद में लाना चाहिये.

आयकर विभाग का छापा भाजपा के पूर्व सांसद डॉ किरिट सोमैय्या द्वारा जनवरी में की गयी शिकायत का नतीजा है. सोमैय्या ने आरोप लगाया था कि जाधव दंपती ने कई शेल कंपनियों के जरिये करीब 30 करोड़ रुपये का हवाला लेनदेन किया है और ये दोनों मनी लॉंड्रिंग में शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.