मनी लॉन्ड्रिंग केस में मुंबई में गोवावाला बिल्डिंग कंपाउंड पर ED की रेड

मुंबई : मनी लॉन्ड्रिंग केस (Money Laundering Case) में NCP नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मुंबई (Mumbai) के कुर्ला स्थित गोवावाला बिल्डिंग कंपाउंड पर छापा मारा है। CRPF जवानों के साथ पांच से छह अधिकारियों की टीम यहां पहुंची है। ईडी की टीम वहां तलाशी के साथ जांच में जुटी हुई है। ये वही प्रॉपर्टी है, जिसके लेनदेन में महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक पर जेल में हैं। नवाब मलिक चार अप्रैल तक हिरासत में हैं। मलिक को ईडी ने पिछले महीने ही गिरफ्तार किया था।

इधर इस्तीफे की मांग
वहीं, दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी (BJP) लगातार नवाब मलिक को मंत्री पद से हटाने की मांग कर रही है। मंगलवार को भी विधानसभा के बाहर बीजेपी विधायकों ने नारेबाजी की और सरकार से मलिक को बर्खास्त करने की मांग की। बता दें कि इस वक्त महाराष्ट्र (Maharashtra) में बजट सत्र चल रहा है और बीजेपी लगातार सदन में भी नवाब मलिक के इस्तीफे का मुद्दा उठा रही है। हालांकि महाराष्ट्र सरकार पहले ही कह चुकी है कि वह मलिक पर इस्तीफे का दबाव नहीं बनाएगी।

कब से हिरासत में हैं मलिक
बता दें कि 23 फरवरी को नवाब मलिक को ईडी ने लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। उनकी गिरफ्तारी के बाद से ही राज्य में पक्ष-विपक्ष आमने सामने हैं। राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच भी तकरार चल रही है। पहले मलिक सात मार्च तक ईडी की हिरासत में थे लेकिन बाद कोर्ट ने उन्हें 21 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था, जिसे अब बढ़ाकर चार अप्रैल तक कर दिया गया है।

अंडरवर्ल्ड कनेक्शन का आरोप
ईडी ने मलिक पर PMLA (Prevention of Money Laundering Act, 2002) के तहत मामला दर्ज किया है। नवाब मिलक पर आरोप है कि उन्होंने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) की बहन हसीना पारकर (Haseena Parkar) से कुर्ला के गोवा परिसर में तीन एकड़ की जमीन औने-पौने दाम में खरीदी थी। जांच के मुताबिक इस जमीन की कीमत 300 करोड़ के करीब है। जिसको लेकर मलिक से लगातार पूछताछ जारी है।