नवनीत राणा के वकील रिजवान मर्चेंट का दावा खार नहीं सांताक्रुज पुलिस स्टेशन में हुई थी बदसलूकी

मुंबई: हनुमान चालीसा विवाद से सुर्खियों में आए सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा का पुलिस हिरासत में चाय पीने वाले विडियो सीसीटीवी फुटेज पर नया बखेड़ा खड़ा हो गया। इस फुटेज को मुंबई पुलिस आयुक्त संजय पांडेय ने मंगलवार को ट्वीट किया था। इसमें राणा दंपती चाय पीते दिख रहे हैं, जबकि उनके सामने टेबल पर पानी की बोतलें रखी हैं। 12 सेकंड के इस विडियो को ट्वीट कर पांडेय ने लिखा था, ‘क्या हम कुछ और कहते हैं।’

इस विडियो के ट्वीट किए जाने के कुछ घंटों बाद मंगलवार को ही राणा दंपती ने अपने वकील रिजवान मर्चेंट के माध्यम से एक स्पष्टीकरण जारी किया और दावा किया कि शनिवार को उनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस द्वारा उन्हें सांताक्रुज पुलिस स्टेशन के लॉकअप में रखा गया था, जहां उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया था। वह लॉकअप सांताक्रुज पुलिस स्टेशन में है, न कि खार पुलिस स्टेशन में, जबकि आयुक्त ने खार पुलिस स्टेशन का सीसीटीवी फुटेज जारी किया है।

मर्चेंट ने दावा किया कि मैं केवल यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि संजय पांडेय सर का ट्वीट मेरे मुवक्किल द्वारा खार पुलिस स्टेशन में गिरफ्तार होने के बाद बिताए गए समय के बारे में है। उन्हें अधिकारियों ने चाय की पेशकश की, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन वे (राणा दंपती) दोपहर 1 बजे तक खार पुलिस स्टेशन में थे। 1 बजे के बाद उन्हें सांताक्रुज पुलिस स्टेशन के लॉकअप में लाया गया था, जहां उन्हें रात भर के लिए हिरासत में रखा गया था। मर्चेंट ने कहा कि नवनीत राणा के साथ बदसलूकी की शिकायत खार थाने में नजरबंदी से संबंधित नहीं है, बल्कि सांताक्रुज पुलिस स्टेशन में नजरबंदी से संबंधित है।

राणा दंपती मामले में गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटील ने पुलिस को क्लीन चिट दे दी है। उनका कहना है कि नवनीत की तरफ से की गई शिकायत की जांच की गई और इसमें कोई तथ्य नहीं मिला। उधर, संजय पांडे के ट्वीट के बाद शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि कुछ दिन से मुंबई पुलिस को बदनाम करने की साजिश चल रही है। राणा दंपती ने मुंबई पुलिस पर झूठे आरोप लगाए। इसके अलावा, पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस का पुलिस पर झूठे आरोप लगाना गलत है। संजय पांडे ने बेबुनियाद आरोपों का सबूत सहित उत्तर दिया। देश को पांडे का आभार प्रकट करना चाहिए। साफ दिख रहा है कि पुलिस ने राणा के साथ शालीन व्यवहार किया।