राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा बाबरी मस्जिद मामले में फैसला यह अपेक्षित था और इसलिए हमें आश्चर्य नहीं हुआ

मुंबई : बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के मामले में विशेष अदालत द्वारा सभी आरोपियों को बरी किए जाने से वह चकित नहीं है। लखनऊ में सीबीआई की विशेष अदालत ने भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी सहित सभी 32 आरोपियों को निर्णायक पुख्ता साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया। महाराष्ट्र के मंत्री एवं राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने एक वीडियो संदेश में कहा, ‘‘मामले में अदालत ने आज फैसला दे दिया है। यह अपेक्षित था और इसलिए हमें आश्चर्य नहीं हुआ।’’ मंत्री ने कहा कि साक्ष्यों के अभाव में आरोपी भले ही बरी हो गए लेकिन जांच एजेंसियों ने साक्ष्यों के आधार पर मामला दायर किया था।