बिहार में NDA ने हासिल किया पूर्ण बहुमत, कमल की कमान पर चला तीर

बिहार में देर रात तक चली उटापटक के बाद एनडीए ने 125 सीटें जीतकर बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है। एनडीए को कांटे की टक्कर देने वाला महागठबंधन बहुमत के आंकड़े से थोड़ा पीछा रह गया, महागठबंधन को 110 सीटें हासिल हुई हैं। वहीं सांसद असदुद्दीनओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए पांच सीटों पर जीत दर्ज की है।

बहुजन समाज पार्टी ने भी एक सीट पर जीत दर्ज की है, जेडीयू का विरोध करते हुए बिहार विधानसभा चुनाव में अकेले दम पर मैदान में उतरी चिराग़ पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को सिर्फ़ एक सीट ही हासिल हुई है। महागठबंधन की अगुवाई करने वाली पार्टी राष्ट्रीय जनता दल 75 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। भारतीय जनता पार्टी ने भी अपनी सीटों में इजाफ़ा किया है और वो 74 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर है। वहीं साल 2015 के चुनाव में 27 सीटें हासिल करने वाली कांग्रेस को इन चुनावों में सिर्फ़ 19 सीटें ही मिली हैं।

चुनावों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड का प्रदर्शन बहुत अधिक उत्साहित करने वाला नहीं रहा, साल 2015 में 71 सीटें जीतने वाली जेडीयू को इस बार 43 सीटें ही हासिल हुई हैं। चुनाव आयोग के मुताबिक कोविड-19 की वजह से ही मतगणना में ज़्यादा समय लगा, सुबह आठ बजे शुरू हुई वोटों की गिनती रात ढ़ाई बजे तक चली। आरजेडी और कांग्रेस ने बिहार विधानसभा चुनावों की मतणना में गड़बड़ी के आरोप लगाया है और ये दोनों पार्टियां इसे लेकर चुनाव आयोग के पास भी गईं, हालांकि बाद में चुनाव आयोग के सेक्रेटरी जनरल उमेश सिन्हा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि नाव आयोग किसी भी तरह के दवाब में आकर काम नहीं करता है।

पीएम मोदी ने जीत के बाद ट्वीट कर जनता का आभार जताया, उन्होंने लिखा कि बिहार में जनता-जनार्दन के आशीर्वाद से लोकतंत्र ने एक बार फिर विजय प्राप्त की है। बीजेपी के साथ एनडीए के सभी कार्यकर्ताओं ने जिस संकल्प-समर्पण भाव के साथ कार्य किया, वह अभिभूत करने वाला है। मैं कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं और बिहार की जनता के प्रति हृदय से आभार प्रकट करता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.