महाराष्ट्र के एक गांव में महिला का उत्पीड़न करने के आरोपी को जमानत दिए जाने पर विरोध प्रदर्शन की गया

महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के सिल्लोड में एक स्थानीय महिला का उत्पीड़न करने के आरोपी एक व्यक्ति को जमानत दिए जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रही उग्र भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को रबर की गोलियों का इस्तेमाल करना पड़ा और चार राउंड गोलियां चलानी पड़ीं। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि केलगांव में शुक्रवार देर रात भीड़ भड़क गई जिसमें तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए, दो वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। 58 ग्रामीणों को दंगा करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। अधिकारी ने बताया, ‘‘10 दिसंबर को, इस गांव की एक महिला ने एक वीडियो अपलोड करने के बाद जहर खा लिया था, जिसमें उसने आरोप लगाया था कि उसे एक व्यक्ति परेशान कर रहा है । महिला की हालत अब स्थिर है। हमने आरोपी रामदास वाघ को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन उसे अगले दिन जमानत मिल गई। इससे ग्रामीण नाराज हो गए, जिन्होंने आरोपी के घर पर हमला कर दिया और उसके परिजनों के साथ मारपीट की।’’

उन्होंने बताया, ‘वाघ के घरवालों को बचाने के लिए पुलिस को पहले हल्के लाठीचार्ज जैसे उपाय करने पड़े और बाद में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए दो रबर की गोलियां और एक अधिकारी की सर्विस रिवॉल्वर से चार राउंड गोली चलानी पड़ी ।’

अधिकारी ने बताया कि 58 लोगों के खिलाफ हत्या के प्रयास और दंगे का मामला दर्ज किया गया है, जिनमें से आठ पर एससी/एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के प्रावधानों के तहत भी आरोप लगाए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.