JNU पहुंचीं अपराध शाखा की टीमें, गृह मंत्रालय व उपराज्यपाल को सौंपी जाएगी अंतिम रिपोर्ट

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में रविवार को हुई हिंसा की जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के विशेष आयुक्त सतीश गोलचा और डीसीपी ज्वॉय टिर्की ने अब से कुछ देर पहले घटनास्थल का मुआयना किया। मामले की जांच में जुटी सभी जांच टीमें डीसीपी ज्वॉय टिर्की को रिपोर्ट करेंगी। जांच में जो अंतिम निष्कर्ष निकलकर सामने आएगा, उसे केंद्रीय गृह मंत्रालय और दिल्ली के उपराज्यपाल के हवाले किया जाएगा।

जांच की निगरानी अपराध शाखा के विशेष आयुक्त सतीश गोलचा को सौंपी गई है। सतीश गोलचा ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि मेरे साथ डीसीपी ज्वॉय टिर्की सहित टीम के अन्य सदस्य भी थे। पूरी टीम का मौके पर एक साथ जाना जरूरी था, ताकि जांच के वक्त सब आपस में एक-दूसरे के साथ बेहतर सामंजस्य बनाकर सही तथ्य सामने ला सकें।

विशेष आयुक्त (अपराध शाखा) गोलचा ने आगे बताया कि मौके पर पहुंची हमारी टीमों ने काफी लोगों से बातचीत भी की। सामने आ रहे तथ्यों से उम्मीद है कि जल्द ही कोई न कोई सटीक बात निकल कर सामने आ जाएगी, जिससे पता चल जाएगा कि रविवार शाम और रात के वक्त जेएनयू कैंपस में हिंसा के लिए आखिर असली जिम्मेदार कौन थे?

उन्होंने कहा, हमारी जांच की प्राथमिकता में यह पता करना भी है कि आखिर रविवार रात कैंपस में हिंसा के लिए जिम्मेदार लोग आखिर अंदर के ही थे या बाहर के? इसका पता लगते ही जांच को सही दिशा तो मिलेगी ही, साथ ही आरोपियों तक पहुंचने के लिए भी पुलिस टीमों को बेवजह इधर-उधर वक्त जाया नहीं करना पड़ेगा। गोलचा ने अब तक हासिल हुई जानकारी देने से यह कहते हुए इंकार कर दिया कि बाकी तफ्तीश पूरी होने के बाद ही सही तथ्य सामने आने पर बोलना सही होगा।

हां, इतना तय है कि जिस तरीके के सबूत और गवाह प्राथमिक पड़ताल में या मेरी मौके की विजिट में सामने आ रहे हैं, उसमें जांच में कुछ मुश्किलें आ सकती हैं। उन्होंने आगे कहा कि जहां तक सीसीटीवी फुटेज की बात है तो हमारी टीमें उस पर भी काम कर रही हैं। कुछ फुटेज मिले हैं, मगर इन फुटेज के बलबूते फिलहाल किसी अंतिम निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.