राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने कांग्रेस के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय करने के लिए एक समिति गठित की

महाराष्‍ट्र में कल राष्‍ट्रपति शासन लागू होने के बाद गठबंधन सरकार बनाने के लिए राजनीतिक गतिविधियों और विचार-विमर्श का सिलसिला तेज हो गया है। राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, जो हाल में हुए विधानसभा चुनाव में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, कांग्रेस और शिवसेना के साथ नई गठबंधन सरकार बनाने के प्रयासों में जुट गई है। आज सुबह मुम्‍बई में आयोजित एक बैठक में राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की पांच सदस्‍यों की एक कमेटी बनाई गई, जो कांग्रेस के साथ न्‍यूनतम साझा कार्यक्रम तय करेगी। कमेटी के सदस्‍यों में जयंत पाटिल, अजित पवार, छगन भुजबल, धनंजय मुण्‍डे और नवाब मलिक शामिल हैं।

बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता अजित पवार ने कहा कि श्री जयंत पाटिल महाराष्‍ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्‍यक्ष बालासाहेब थोराट से मुलाकात करेंगे और दोनों पार्टियों के बीच आगे की बातचीत के मुद्दों और तारीखों का फैसला किया जाएगा। श्री पवार ने कहा है कि उनकी पार्टी यह महसूस करती है कि महाराष्‍ट्र में इस साल के अंत तक नयी सरकार का गठन हो जाना चाहिए। उन्‍होंने यह भी कहा कि सभी विधायकों ने एक प्रस्‍ताव पारित कर अंतिम फैसला करने का अधिकार पार्टी प्रमुख शरद पवार को सौंप दिया है। कुछ विधायकों ने यह भी सुझाव दिया है कि वे कल फिर बैठक करेंगे, जिसमें आगे चर्चा की जाएगी।

इस बीच, शिवसेना अध्‍यक्ष उद्धव ठाकरे ने कल रात कांग्रेस नेता अहमद पटेल से मुलाकात की। श्री पटेल आज नई दिल्‍ली में कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी को इस बैठक के बारे में जानकारी देंगे। महाराष्‍ट्र कांग्रेस के नेता आज दोपहर बाद श्री ठाकरे से मुलाकात करने वाले हैं, जिसमें नई सरकार के गठन की रणनीति के बारे में आगे चर्चा होगी।

महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोशियारी ने कल राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश की थी। इसके बाद केन्‍द्रीय मंत्रिमण्‍डल ने राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन लागू करने के बारे में राष्‍ट्रपति को अपनी सिफारिश भेजी और राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संविधान के अनुच्‍छेद 356-एक के अंतर्गत राष्‍ट्रपति शासन लागू करने की घोषणा पर हस्‍ताक्षर किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.