महाराष्ट्र में आ गई तीसरी लहर! लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नहीं

मुंबई समेत महाराष्ट्र में कोरोना और ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। इन बढ़ते मामलों से महाराष्ट्र सरकार की चिंता भी बढ़ गई है। महाराष्ट्र के मदद एवं पुनर्वसन मंत्री विजय वडेट्टीवार ने कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर अहम बयान दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है और राज्य अब लॉकडाउन के की चौखट पर खड़ा है। जनवरी और फरवरी के महीने में हालात और भी बिगड़ सकते हैं।

मंत्री विजय वडेट्टीवार के मुताबिक कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि तीसरी लहर का आगमन हो चुका है। राज्य में लॉकडाउन लगाने के पहले स्कूल और मुंबई लोकल पर भी जल्द फैसला लिया जाएगा। बढ़ते मामलों को देखते हुए लॉकडाउन के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं है।

मुंबई में कोरोना और ओमीक्रोन के मरीज मुंबई में लगातार बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। एक दिन में ही नए कोरोना संक्रमितों की संख्या करीब 50 प्रतिशत बढ़ गई। गुरुवार को मुंबई में कोरोना के 3,671 नए मामले आए हैं, जबकि बुधवार को 2,445 नए केस थे। राहत की बात यह रही कि गुरुवार को कोरोना से कोई मौत नहीं हुई। दिसंबर में ऐसा सातवीं बार हुआ है
राज्य में भी नए कोरोना केस बढ़कर गुरुवार 5,368 हो गए, जबकि 22 की मौत हुई। कोविड टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. राहुल पंडित ने बढ़ते मामलों को देखते हुए इसे तीसरी लहर माना है। बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने बताया, ‘कोरोना के नए मरीजों की संख्या भले ही तेजी से बढ़ रही है, लेकिन इसमें 90 फीसद से अधिक मरीज बिना लक्षणों वाले पाए गए हैं। केवल 4-5 फीसद मरीजों में कोरोना के हल्के लक्षण मिले हैं। महज 2-3 फीसद मरीजों को ही अस्पताल में भर्ती करने की नौबत आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.