25 करोड़ रुपये की मांग का दावा करने वाला गवाह मुंबई पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचा

Rokthok Lekhani

Click to Read Today’s E Newspaper ,,

मुंबई : मुंबई के तट से एक क्रूज़ नौका से मादक पदार्थ जब्त होने के मामले में ‘स्वतंत्र गवाह’ प्रभाकर सैल सोमवार को मुंबई पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे।

प्रभाकर ने रविवार को दावा किया था कि मामले में गिरफ्तार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को छोड़ने के लिए एनसीबी के एक अधिकारी तथा अन्य ने 25 करोड़ रुपये मांगे थे।

अधिकारी ने बताया कि सैल अपनी सुरक्षा चिंता के संबंध में पुलिस आयुक्त के कार्यालय पहुंचे। वह सुबह 11 बजकर 20 मिनट पर कार्यालय पहुंचे। वह संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) मिलिंद भारंबे से मिलेंगे।

सैल ने रविवार को पत्रकारों से कहा था कि उन्हें अपनी जान को खतरा की आशंका है और उन्हें नुकसान पहुंचाया जा सकता है।

सैल ने दावा किया था कि स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के एक अधिकारी और कथित तौर पर फरार गवाह केपी गोसावी सहित अन्य ने आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की है।

‘स्वतंत्र गवाह’ प्रभाकर सैल ने कहा था कि आर्यन को तीन अक्टूबर को एनसीबी कार्यालय लाने के बाद उन्होंने गोसावी को फोन पर सैम डिसूजा नामक एक व्यक्ति से 25 करोड़ रुपये की मांग करने और मामला 18 करोड़ रुपये पर तय करने के बारे में बात करते हुए सुना था, क्योंकि उन्हें ‘‘आठ करोड़ रुपये समीर वानखेडे (एनसीबी के जोनल निदेशक) को देने थे।’’

सैल ने दावा किया था कि एनसीबी अधिकारियों ने उनसे नौ से 10 कोरे कागजों पर हस्ताक्षर करने को भी कहा था। एनसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए इन्हें ‘‘पूरी तरह से झूठ और दुर्भावनापूर्ण ’’ करार दिया।

स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े ने रविवार को मुंबई पुलिस आयुक्त को पत्र लिख, अज्ञात लोगों द्वारा कथित सतर्कता संबंधी मामले में फंसाने के लिये उनके खिलाफ ”योजनाबद्ध” कानूनी कार्रवाई किए जाने से सुरक्षा मांगी की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.