कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन,पत्रकारों को किया गया सम्मानित

मुंबई यूसुफ पूरी। उर्दू पत्रकारिता के 200 साल पूरे होने पर पत्रकार विकास फाउंडेशन की और गत दिन शाम को भायखला स्थित खिलाफत हाउस में जश्न-ए-उर्दू नाम से एक कवि सम्मेलन का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस सम्मेलन में उपस्थित हिंदी, उर्दू के कवि और शायरों द्वारा मातृभूमि को लेकर कविताएं और गीत प्रस्तुत किये गये। कवि सम्मेलन में मुख्य रूप से शायर फैसल मारुलवी,अजमल आरिफ आजमी, नौशाद आरिज, डॉ, अली फाजिल, मसरूर शाहजहां पूरी,यूसुफ यलगर,अजरा खानम,अलीम ताहिर, अब्दुल्ला आजमी,रियाज मुंसिफ, प्रो जमील कामिल सहित कई कवि उपस्थित रहे। इस उर्दू पत्रकार दिवस पर आयोजित कवि सम्मेलन में मौजूद हिंदुस्तान के संपादक व विकास फॉउंडेशन के संस्थापक सरफराज आरजू ने उर्दू भाषा और पत्रकारिता पर अपने विचार व्यक्त किए और कहा कि उर्दू पत्रकारिता कितनी कठिनाइयों से गुजरी है, वही फॉउंडेशन के अध्यक्ष व वरिष्ठ पत्रकार यूसुफ राणा ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर अलीम ताहिर द्वारा लिखी गई काविता,गीत की पुस्तक का विमोचन मुख्य अतिथियों के हाथों किया गया।

इस मौके पर उपस्थित वरिष्ठ पत्रकार रमा शर्मा, हिना खान, सारा पूरी, फिरदौस सुरती, शमा ईरानी सैयद मंजूर, यूसुफ पूरी, सकील अंसारी,वसीम संजर,मुनव्वर सुल्ताना, मुशीर अंसारी, नईम शेख,फैसल शेख शफिक शेख, राजू गणपत जाधव,आरिफ अंसारी, अलाउद्दीन, इर्शादुल हसन,हुसेन सुल्तान सहित विभिन्न समाचार पत्रिकाओं से जुड़े पत्रकारों की मूल्यवान सेवाओं के लिए “कलम के सिपाही” प्रमाणपत्र और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया गया।