कोविड 19 के उपचार के लिए वैक्‍सीन निर्माण, दवा की खोज, निदान और परीक्षण की मौजूदा स्थिति की समीक्षा

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कोरोना के उपचार के लिए वैक्‍सीन, दवाओं की खोज, निदान और परीक्षण की दिशा में देश के प्रयासों की मौजूदा स्थिति की समीक्षा की है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार 30 से अधिक भारतीय वैक्‍सीन विकास के विभिन्‍न चरण में हैं। औषधि विकास में तीन चरणों पर काम हो रहा है जिसमें मौजूदा दवाओं का पुन: संयोजन, नई औषधि पर प्रयोगशाला परीक्षण और सामान्‍य वायरस रोधी गुणों की जांच के लिए पौध उत्‍पाद और तत्‍वों का परीक्षण शामिल है। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने शोधकार्य, उद्योग और सरकार के समन्वित प्रयासों से कुशल नियामक प्रक्रिया पर विचार किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि औषध अनुसंधान के लिए जिस नवाचारी ढंग से भारतीय वैज्ञानिक और उद्योग साथ आये हैं वह सराहनीय है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद- आई.सी.एम.आर. ने कहा है कि देश के विभिन्‍न सरकारी और निजी जांच केन्‍द्रों में अब तक कोविड 19 के 12 लाख 76 हजार सात सौ 81 नमूनों की जांच की गई है। इस बीच, परिषद देश में जांच सुविधा को बढाने के लिए सरकारी और प्राइवेट जांच केन्‍द्रों को मंजूरी दे रहा है। अब तक तीन सौ 21 सरकारी और एक सौ 18 निजी जांच केन्‍द्रों को कोविड 19 की जांच के लिए मंजूरी दी जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.