देशभर में तटीय सुरक्षा से संबंधित ‘सी विजिल’ अभ्यास मंगलवार और बुधवार को

मुंबई समुद्र के रास्ते देश में दस्तक देने वाले किसी भी खतरे से निपटने के लिए भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक मंगलवार और बुधवार को ‘सी विजिल’ अभ्यास संचालित करेंगे। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

अधिकारी ने बताया कि सभी तटीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में व्यापक स्तर पर संचालित अभ्यास का यह दूसरा संस्करण है। पश्चिमी नौसेना कमान मुख्यालय के कमान तटीय रक्षा अधिकारी कैप्टन अजय यादव ने बताया कि देश में तटीय सुरक्षा की मजबूती से संबंधित हर पहलुओं की समीक्षा इसके जरिए की जाएगी और इसमें इस क्षेत्र से जुड़े सभी भागीदार हिस्सा लेंगे।

यह अभ्यास नौसेना मुख्यालयों, पश्चिमी नौसेना कमान मुख्यालय, पूर्वी नौसेना कमान मुख्यालय, दक्षिणी नौसेना कमान मुख्यालय और अंडमान-निकोबार कमान के तत्वाधान में किया जाएगा। इसमें नौसेना, भारतीय वायु सेना, भारतीय तट रक्षक, सीमा सुरक्षा बल, पुलिस, राजस्व, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल समेत अन्य हिस्सा लेंगे।

इस अभ्यास में तकनीकी ढांचों का व्यापक इस्तेमाल होगा और किसी भी खतरे की पूर्व चेतावनी को लेकर ‘आंख और कान’ कहे जाने वाले मछुआरा समुदाय की प्रभावशीलता की भी समीक्षा होगी।

उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष आधारित स्वत: सूचना प्रणाली (एआईएस) को जहाजों पर लगाया गया है ताकि वास्तविक समय में सूचना प्रबंधन व विश्लेषण केंद्र (आईएमएसी) गुरुग्राम द्वारा निगरानी की जा सके।

तटीय सुरक्षा से संबंधित तैयारियों की समीक्षा के लिए वर्ष 2009 से अभियान सागर कवच संचालित किया जा रहा है और अब तक कम से कम 240 अभियान संचालित किए जा चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.