देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने का मुख्य कारण तब्लीगी जमात की अलग-अलग राज्यों में की गई बैठकें

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने का मुख्य कारण तब्लीगी जमात की अलग-अलग राज्यों में की गई बैठकें. इसके चलते अब तक देश में कोरोना के 1023 मामले और नए सामने आए हैं. साथ ही 17 राज्यों में कोरोना संक्रमण ने तेजी से पैर पसारे हैं.

शनिवार को प्रेसवार्ता में स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में कुल कोविड के मामलों में से 30 प्रतिशत मामले तब्लीगी जमात से जुड़े पाए गए हैं.

इस मामले में चूक होने के कारण जमात के 17 राज्यों में लिंक पाए गए हैं. इनमें दिल्ली, तमिलनाडु, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, असम, कर्नाटक, अंडमान व निकोबार, उत्तराखंड, हरियाणा, महाराष्ट्र, हिमाचल, अरुणाचल, केरल, झारखंड और जम्मू व कश्मीर शामिल हैं.

संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि जिन जिलों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ा है, उसके लिए विस्तृत प्रबंधन योजना तैयार की गई है. कोरोना से निपटने के लिए देश भर के कई वालंटियर भी जोड़े गए हैं, जिनमें स्वास्थ्यकर्मियों के साथ एनएसएस, ग्राम पंचायतें, स्थानीय इकाई के लोग शामिल हैं.

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण से फैलने वाली महामारी है. इसकी लड़ाई में सभी सहयोग करें, लोग जागरूक हों, लेकिन इससे घबराए नहीं. उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक विश्व में 9 लाख 72 कोरोना के मामले सामने आए हैं. विश्व में एक दिन में 72900 मामले सामने आए हैं.

उन्होंने बताया कि देश में पिछले 24 घंटे में 601 नए मामले सामने आए हैं. कोरोना से निपटने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के कारण देश में कोरोना के मामले विश्व के मुकाबले कम तेजी से बढ़े हैं.

मरीजों में 42 प्रतिशत 21 से 40 आयुवर्ग के
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक कुल मामलों में से 9 प्रतिशत मामले 0-20 वर्ष के आयु वर्ग से हैं. जबकि 42 फीसदी कोरोना के मरीज 21 से 40 वर्ष की आयुवर्ग के हैं. 33 प्रतिशत मामले 41 से 60 वर्ष की आयु के हैं. जबकि 17 फीसदी कोरोना के मरीज 60 वर्ष के ऊपर हैं. इस बीमारी से अब तक ज्यादातर मौतें बुजुर्गों व पहले से शुगर, हाई ब्लड प्रेशर, किडनी या दिल के मरीजों की हुई है.

22000 जमातियों को किया गया क्वारंटाइन
गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि अब तक देश में 22000 तब्लीगी जमातियों व उनके संपर्कियों को क्वारंटाइन किया गया है. गृह मंत्रालय के कंट्रोल रूम में कार्यरत 200 कर्मचारी 24 घंटे स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.

गृह सचिव ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के सचिवों के चिट्ठी लिखकर लॉकडाउन के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करने के साथ राहत शिविरों में सभी सुविधाएं सुनिश्चित करने को कहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.